जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना महामारी के दौरान नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन का कारोबार कर मरीजों की जान से खिलवाड़ करने के मामले में पुलिस को एक और सफलता मिली है। नकली इंजेक्शन की शीशी पर चस्पा किए गए स्टीकर बनाने वाले व्यापारी को जबलपुर पुलिस गुजरात से ले आई है। ओमती थाना में उसके खिलाफ भी अपराध दर्ज किया गया था।

नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन के वायल पर चस्पा किए गए रैपर बनाने वाले नागूजी उर्फ नागेश को एसआइटी गुजरात से जबलपुर ले आई है। एसआइटी की मांग पर कोर्ट ने उसे 16 जुलाई तक के लिए प्रोडक्शन रिमांड पर सौंपा है। एसआइटी ने उसे कोर्ट में पेश किया था। तीन दिन की पुलिस रिमांड मिलने के बाद उससे कड़ी पूछताछ की जा रही है। नागूजी गुजरात के मोरबी जेल मेंं बंद था। बताया जाता है कि गुजरात पुलिस ने महाराष्ट्र सीमा से सटे दक्षिणी गुजरात के औद्योगिक क्षेत्र वापी से बीते दिनों नागूजी उर्फ नागेश को गिरफ्तार किया था। उसने नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन के 75 हजार रैपर एक लाख 80 हजार रुपये में बनाए थे। नागूजी ने असली रेमडेसिविर इंजेक्शन की हू-ब-हू नकल कर रैपर तैयार किए थे, जिसे नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन के वायल पर चस्पा किया गया था। पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा ने बताया कि सिटी हॉस्पिटल लाए गए गुजरात में बने नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन पर चस्पा रैपर नागूजी ने तैयार किए थे।

इधर कोरोना से लगातार मिल रही राहत: कोरोना संक्रमण की पॉजिटिविटी दर घट कर जिले में 0.01 फीसद रह गई है। लैब से जारी 5 हजार 606 सैंपल की रिपोर्ट में कोरोना संक्रमित एक मरीज सामने आया। जबकि कोरोना संक्रमण से मुक्त होने पर दो लोगों को आइसोलेशन से छुट्टी दी गई। इस प्रकार जिले में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 50 हजार 606 हो गई है जिसमें 49 हजार 903 मरीज कोरोना को मात दे चुके हैं। इधर, कोरोना से रिकवरी बढ़कर 98.61 फीसद हो गई है। कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या 20 हो गई है जिसमें 17 होम आइसोलेशन में हैं। 5 हजार 710 संदिग्धों के सैंपल कोरोना जांच के लिए भेजे गए। जिले में अब तक 672 मरीज कोरोना से जान गवां चुके हैं।

फैक्ट फाइल

कुल संक्रमित-50606

स्वस्थ हुए-49903

सक्रिय मरीज-20

मृत्यु-672

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local