जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। रेलवे ने ट्रेनों की संख्या बढ़ाने के साथ ट्रेनों को रद करना भी शुरू कर दिया है। जबलपुर रेल मंडल की सीमा से गुजरने वाली चार ट्रेनों को रेलवे ने 16 जुलाई तक रद कर दिया है। इस दौरान इन ट्रेनों में सफर करने वाले यात्रियों का आरक्षण भी रद हो गया है। इन यात्रियों को टिकट का 100 फीसदी शुल्क रिफंड किया जाएगा। जानकारी के मुताबिक दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर मंडल द्वारा पश्चिम मध्य रेल से संबंधित चार जोड़ी ट्रेनों को पहले 9 जुलाई तक के लिए निरस्त किया था। इन ट्रेनों को अब 16 जुलाई तक के लिए रद कर दिया है। इनमें जबलपुर रेलवे स्टेशन से रवाना होने वाली जबलपुर-अंबिकापुर इंटरसिटी है। दरअसल जबलपुर से अंबिकापुर जाने के लिए एक मात्र इंटरसिटी है, जिसे रेलवे पिछले चार माह से लगातार रद कर रहा है। इस ट्रेन के न चलने से जबलपुर से अंबिकापुर के बीच रेल संपर्क टूटा हुआ है।

ये ट्रेनें की रद

भोपाल से बिलासपुर के बीच चलने वाली ट्रेन 18235-36 ट्रेन को 10 से लेकर 16 जुलाई तक के लिए रद किया गया है। वहीं ट्रेन 18247 बिलासपुर-रीवा भी 16 जुलाई तक रद रहेगी। इसके अलावा ट्रेन 18248 रीवा-बिलासपुर को रद किया गया है। इसके अलावा अपने प्रारंभिक स्टेशन से रवाना होने वाली ट्रेन 11265 जबलपुर-अंबिकापुर केा 15 जुलाई और ट्रेन 11266 अंबिकापुर-जबलपुर को 16 जुलाई तक के लिए रद किया गया है। ट्रेन 22169 रानी कमलापति-संतरागाछी साप्ताहिक हमसफ़र को 13 और 14 जुलाई को रद किया है।

30 टीटीई ने जाना एचएचटी मशीन चलाने का तरीका

जबलपुर। जबलपुर रेल मंडल में चलने वाली यात्री गाड़ियों में ड्यूटी करने वाले चल टिकट निरीक्षक यानी टीटीई को रेलवे द्वारा जल्द ही एच एचटी (हैंड हैंडल टर्मिनस) मशीन दी जाएगी। इसकी मदद से टिकट निरीक्षक ट्रेन में रेलवे के सर्वर की मदद से इसका उपयोग कर सकेंगे। वे सर्वर के जरि इंटरनेट से जुड़ेंगे। इतना ही नहीं ट्रेन में बर्थ खाली होने या फिर आरएसी के क्लियर होने की लगातार मिलेगी।

इसके लिए जबलपुर सहित भोपाल और कोटा मंडल के 30 टीटीई को जबलपुर मंडल इसका प्रशिक्षण दिया गया। मशीन चलाने के तरीके के बारे में दो दिवसीय प्रशिक्षण में सभी जानकारी दी गई। इस मौके पर सेंटर फॉर इनफॉरमेशन सिस्टम (क्रिस) के सॉफ्टवेयर इंजीनियर किरण और सीनियर डीसीएम जबलपुर विश्वरंजन ने विस्तार से बताया।

प्रशिक्षण शिविर में अधिकारियों ने टिकिट निरीक्षकों को एचएचटी की कार्यप्रणाली का प्रशिक्षण दिया। इस दौरान सीनियर डीसीएम ने बताया कि इसकी मदद से रेलवे के कार्य में आसानी होगी। यात्रियों को भी आप ज्यादा अच्छी सेवा दे सकेंगे। इस टर्मिनस के द्वारा चल टिकट निरीक्षक हमेशा रेलवे से जुड़े रहेंगे। उनकी तमाम गतिविधियां एवं यात्रियों को मिलने वाली सुविधाओं की जानकारी इस टेबलेट नुमा एचएचटी से मिलेगी।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close