जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 के 20 नंवबर को जारी नतीजों में जबलपुर तीन कदम तो पिछड़ा ही अवार्ड में भी शहर की झोली खाली रही। ये गनीमत रही कि जबलपुर को कचरा संग्रहण में गोल्ड यानी अनुपम अवार्ड मिल गया। वरना जिम्मेदारों से जबाव देते तक नहीं बनता।

स्वच्छता के परीक्षा परिणामों में यदि नजर डाले तो जबलपुर को पिछले तीन वर्षों में सिर्फ तीन अवार्ड ही मिल पाए हैं। वहीं स्वच्छ सर्वेक्षण में पिछले पांच वर्षों से नंबर वन रहे इंदौर ने अवार्डों की झड़ी लगा दी है। 2021 के सर्वेक्षण में ही इंदौर शहर को दिव्य यानी प्लेटियम सहित तीन अवार्ड मिले हैं। हालांकि नगर निगम के अधिकारी अब स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 से उम्मीद लगाए हैं। उनका कहना है कि 2020 के सर्वेक्षण में न सिर्फ जबलपुर टाप पांच में आएगा बल्कि अवार्ड भी मिलेंगे।

जबलपुर को इसलिए मिला गोल्ड: जबलपुर को सर्वेक्षण 2021 में अवार्ड की श्रेणी में उत्पन्न गीले कचरे के खिलाफ प्रसंस्करण क्षमता, गीले और सूखे कचरे का प्रसंस्करण और पुनर्चक्रण, निर्माण और विध्वंस (सीएंडडी) अपशिष्ट प्रसंस्करण और शहर में स्वच्छता की स्थिति को देखते हुए गोल्ड अवार्ड से नवाजा गया है।

इंदौर को प्लेटिनम: वहीं इंदौर को नंबर वन बेस्ट कैटेगरी के प्लेटिनम अवार्ड से नवाजा गया है। ये अवार्ड 17 प्रकार के गीले, सूखे और खतरनाक श्रेणियों में कचरे का पृथक्करण, उत्पन्न गीले कचरे के खिलाफ प्रसंस्करण क्षमता, गीले और सूखे कचरे का प्रसंस्करण और पुनर्चक्रण, निर्माण और विध्वंस अपशिष्ट प्रसंस्करण, लैंडफिल में जाने वाले कचरे का प्रतिशत और शहर की बेहतर स्वच्छता की स्थिति को देखकर दिया गया है।

---------

शहर को तीन वर्षों में सिर्फ तीन अवार्ड:

- 2019 के सर्वेक्षण में जबलपुर 25वें स्थान पर रहा। जबलपुर की कठौंदा स्वच्छता पार्क में नवाचार करने पर बेस्ट इनोवशन अवार्ड से नवाजा गया था।

- 2020 में जबलपुर 17वें पायदान पर रहा। हालांकि इस वर्ष भी जबलपुर को सिटीजन अवार्ड से ही संतोष करना पड़ा। नागरिकों के अच्छी प्रतिक्रिया से ये अवार्ड मिल पाया।

- 2021 में जबलपुर तीन पायदान फिसल कर 20 वें स्थान पर आ गया। लेकिन कचरे के एकत्रीकरण और उसके निपटान को देखते हुए गोल्ड अवार्ड दिया गया।

--------

स्वच्छ सर्वेक्षण में पांच अवार्ड थे

- प्लेटियम - दिव्य

- गोल्ड - अनुपम

- उज्जवल - सिल्वर

- उदित- ब्रांज

- अरोही - कापर

----------

स्वच्छता की परीक्षा में ऐसा रहा जबलपुर का प्रदर्शन

चरण - कुल अंक - मिले

सर्विस लेवल प्रोसेस सफाई (कूड़ा संग्रहण व उसका निस्तारण) - 2400 - 1967

सिटीजन वायस (नागरिक की प्रतिक्रिया) - 1800 - 1389

सर्टिफिकेशन (प्रमाणीकरण) - 1800 - 500

कुल अंक - 6000 - 3856

---------------

जबलपुर को स्वच्छ सर्वेक्षण में गोल्ड अवार्ड मिला है। इससे स्पष्ट है कि शहर में कूड़े का संग्रहण व उसका निपटान बेहतर तरीके से किया जा रहा है। जो कमियां रह गई है उसे दूर करते हुए 2022 के सर्वेक्षण में जबलपुर का प्रदर्शन बेहतर करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

भूपेंद्र सिंह, स्वास्थ्य अधिकारी, नगर निगम

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local