जबलपुर (नईदुनिया रिपोर्टर)। विद्यार्थियों ने अच्छे अंकों को प्राप्त करने के लिए और अपनी डिग्री प्राप्त करने के लिए काफी मेहनत की थी, उनके चेहरे पर उस वक्त मुस्कान देखने को मिली। जब उन्हें अच्छे अंकों के लिए स्वर्ण पदक और डिग्री प्रदान की गई। कोरोना महामारी के दौरान विद्यार्थी अपनी इस खुशी का इजहार वर्चुअल ही कर पाए, हालांकि विद्यार्थी चाहते थे कि मंच पर आकर यह अतिथियों से डिग्री और स्वर्ण पदक प्राप्त करें, लेकिन कोरोना के कारण बिगड़ते हालातों के कारण यह संभव नहीं हो सका। पंडित द्वारका प्रसाद मिश्र भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी, अभिकल्पन एवं विनिर्माण संस्थान के 11वां दीक्षा समारोह का आयोजन आनलाइन माध्यम से किया गया। इस संस्थान की स्थापना शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार द्वारा वर्ष 2005 में सूचना प्रौद्योगिकी संवर्धित अभिकल्पन (डिजाइन) एवं विनिर्माण की शिक्षा प्रदान करने के उदेश्य से की गई है।

अपने अंदर छिपी हुई प्रतिभा को पहचानें: कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारत सरकार के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने वर्चअल रूप से दीक्षा में अपना अभिभाषण दिया। इन्होंने भारतवर्ष के गौरवशाली इतिहास का वर्णन करते हुए आर्यभट्ट, शुश्रुत व कौटिल्य के बारे में बताया व छात्रों को अपने इतिहास व संस्कृतिक से प्रेरणा ग्रहण करने के लिए प्रेरित किया। साथ ही छात्रों को संबोधित करते हुए इन्होंने अपने अंदर छिपी हुई प्रतिभा को ढूंढ़ने के लिए प्रेरित किया। युवा हमारे देश का भविष्य हैं जिस पर देश निर्भर है। इन्होंने विश्व कल्याण के लक्ष्य के लिए भारत को सुपर पॉवर बनाने के लिए भी छात्रों को प्रेरित किया। संस्थान के प्रशासक मंडल के अध्यक्ष दीपक घैसास ने दीक्षांत समारोह के शुरू होने की घोषणा करते हुए छात्रों को बधाई दी और आत्मनिर्भर भारत में उपलब्ध अपार संभावनाओं की बात कही साथ ही आइपीआर डिजाइन एंड मैन्युफैक्चुरिंग के क्षेत्र में अधिक कार्य करने के लिए प्रेरित किया।

रक्षामंत्री ने 13 शोधार्थियों को प्रदान की उपाधि: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 13 शोध छात्रों व प्रशासक मंडल अध्यक्ष दीपक घैसास ने 270 स्नातक, 88 परास्नातक छात्रों को उपाधि प्रदान की। मुख्य अतिथि राजनाथ सिंह ने विभिन्न वर्गों में विद्यार्थियों को स्वर्ण एवं रजत पदक प्रदान किए। ट्रिपल आईटी डीएम में पांच विद्यार्थियों के साथ मंच पर स्वर्ण पदक दीक्षांत से पहले ही प्रदान किए गए थे। वर्चुअल रूप से आयोजित इस कार्यक्रम में पदक प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं के नामों की घोषणा संस्थान के अधिष्ठाता प्रो.विजय कुमार गुप्ता ने की। गोल्ड मेडल प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं में चेयरमेन्स गोल्ड मेडल कनिका धीमन, निदेशक गोल्ड मेडल मनीष प्रधान, डी एंड एम प्रोफिसियेंसी गोल्ड मेडल मनीष प्रधान, तनय माधुर, अमीश कुमार नायडू, अनिकेत मिश्रा, शिवम गर्ग, केशव यादव, अंकित नायक को प्रदान किया गया। संस्थान के 11वें दीक्षांत समारोह का आयोजन अधिष्ठाता प्रो.वीके गुप्ता, सहायक कुलसचिव संतोष महोबिया द्वारा किया गया।

संघर्ष के बाद पहुंचे ट्रिपलआईटी, मिला स्वर्ण पदक: 11 वें दीक्षा समारोह में कानपुर के अनिकेत मिश्रा को डी एंड एम प्रोफिसियेंसी के लिए गोल्ड मेडल प्रदान किया गया है। वर्तमान में अनिकेत जापान की टोयोहशी यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी से मास्टर ऑफ साइंस इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग कर रहे हैं।

Posted By: Sunil Dahiya

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags