जबलपुर नईदुनिया प्रतिनिधि। दशहरा चल समारोह में इस बार गोविंद गंज समिति परमाणु युद्ध की आहट को उकेरेगी। इसके अलावा इस बार चलित झांकी में श्रीकृष्ण द्वारा गीतोपदेश, लक्ष्मण-शक्ति, शिव तांडव, महंगाई डायन, नरसिंह अवतार, शेष शैया, विश्वनाथ कारिडोर, गणेश-करकासुर युद्ध, रावण-कुम्भकरण-मेघनाद के विशालकाय पुतले और राम-रावण युद्ध सहित कई सजीव झांकियां जन आकर्षण का केंन्द्र रहेंगी।

शहर के ऐतिहासिक मुख्य दशहरा चल समारोह की अगुवाई करने वाली 158 साल पुरानी गोविंदगंज रामलीला समिति धर्मप्राण जनता के बीच जीवंत झांकियों के माध्यम से समाज को संदेश भी देती है, और दशहरा चल समारोह को भव्यता भी प्रदान करती है। हर बार की तरह इस बार भी रामलीला जुलूस की झांकियों में धर्म-राजनीति-समाज सबका चित्रण रहेगा। इस बार कई झांकियां लोगों के आकर्षण और मनोरंजन का केन्द्र रहेंगी।डेढ़ दर्जन से अधिक झांकियां-गोविंदगंज रामलीला समिति के अध्यक्ष अनिल तिवारी ने बताया कि समिति द्वारा जी-तोड़ मेहनत के बाद तैयार की जाने वाली विभिन्न झांकियों को जनता के बीच आकर्षण का केंद्र बनाने तरह-तरह के जतन किए जाते हैं। इस बार चलित झांकी में परमाणु युद्ध की आहट, श्रीकृष्ण द्वारा गीतोपदेश, लक्ष्मण-शक्ति, शिव तांडव, महंगाई डायन, नरसिंह अवतार, शेष शैया, विश्वनाथ कारिडोर, गणेश-करकासुर युद्ध, रावण-कुम्भकरण-मेघनाद के विशालकाय पुतले और राम-रावण युद्ध सहित कई सजीव झांकियां जन आकर्षण का केंन्द्र रहेंगी।दशानन वध से होगा समापन-मुख्य चल समारोह के समापन पर अहंकार के दशानन का वध भगवान श्रीराम करेंगे। चल समारोह सायं 4 बजे छोटा फुहारा से प्रारंभ होकर गुड़हाई, सराफा, कमानिया, फुहारा, लार्डगंज, सुपर बाजार, बस स्टैंड होते हुए नवभारत से यू टर्न लेकर मुख्य चल समारोह के रूप में आगे बढ़ेगा, जो निर्धारित मार्गों से होता हुआ जुलूस हनुमानताल का चक्कर लगाते हुए छोटा फुहारा पहुंचेगा। यहां रावण-दहन कार्यक्रम आयोजित किया गया है। इसके बाद रामलीला में रावण वध लीला का मंचन होगा।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close