जबलपुर। प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी आरके डेहरिया की अदालत ने फिल्म मोहल्ला अस्सी के अश्लील संवादों को कठघरे में रखे जाने के मामले में अभिनेता सनी देओल सहित अन्य को नोटिस जारी कर जवाब-तलब कर लिया है। इसके लिए 16 दिसम्बर तक का समय दिया गया है।

मामले की सुनवाई के दौरान शिकायतकर्ता हिन्दू धर्म सेना के कमलेश कनौजिया की ओर से अधिवक्ता अमित साहू, आशीष विश्वकर्मा व जयराज दिसोदिया ने पक्ष रखा। उन्होंने दलील दी कि मशहूर कहानीकार काशीनाथ सिंह की साहित्यिक पत्रिका 'हंस' में धारावाहिक प्रकाशित हुई कहानी पर आधारित फिल्म मोहल्ला अस्सी अपने गाली-गलौच भरे संवादों के कारण सभ्य समाज में प्रदर्शित किए जाने योग्य नहीं है। इसके निर्देशक चाणक्य फेम डॉ.चन्द्रप्रकाश की प्रतिभा किसी से छिपी नहीं है, इसके बावजूद उन्होंने इस तरह की फिल्म बनाकर लापरवाही का परिचय दिया है। ऐसा इसलिए क्योंकि फिल्म के प्रदर्शन से पूर्व जो वीडियो सोशल मीडिया-इंटरनेट आदि में वायरल हुआ उसी से साफ हो गया है कि फिल्म में हिन्दू देवी-देवताओं का स्वरूप धरे पात्रों के श्रीमुख से बेहद अनुचित संवाद कहलवाए गए हैं।

इन्हें बनाया पक्षकार-

इस मामले में सनी देओल और डॉ.चन्द्रप्रकाश द्विवेदी के अलावा अभिनेत्री साक्षी तंवर, सौरभ शुक्ला, मुकेश तिवारी, राजेन्द्र गुप्ता, मिथिलेश चतुर्वेदी, विजय अरोरा सहित अन्य को पक्षकार बनाया गया है। अदालत से सभी को समंस जारी कर जवाब-तलब कर लिया है। जवाब पेश न किए जाने की सूरत में पक्षकारों को स्वयं हाजिर होना पड़ेगा।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket