जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मंत्रियों, सांसदों व विधायकों के निज सहायकों से अतिरिक्त कार्य लिया जाता है, तो उसी अनुरूप सुविधा व भत्ता भी देना चाहिए। मध्य प्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ ने निज सहायकों का शोषण बंद करने की मांग की है। साथ ही विशेष सुविधा व भत्ता दिए जाने पर बल दिया है। संघ के प्रांतीय महासचिव योगेंद्र दुबे ने बताया कि सरकार के निर्णय के अनुसार विगत कई वर्षों से मंत्रियों, सांसदों, विधायकों सहित अन्य जनप्रतिनिधियों के कार्यालयों में कार्य करने के लिए शासकीय कर्मचारियों को निज सहायकों के रूप में पदस्थ किया गया है। ऐसे कर्मचारियों का वेतन विभाग द्वारा आहरित किया जाता है।

लगभग सभी निज सहायक शासकीय समय के अतिरिक्त मंत्री आदि के कार्यालयों में दिन-रात अपनी सेवाएं देते हैं, इसके एवज में उन्हें न तो अवकाश की सुविधा है और न ही अतिरिक्त भत्ते आदि मिलती हैं। निश्चित रूप से यह विचारणीय प्रश्न है कि एक शासकीय कर्मचारी जो शासकीय समय के अतिरिक्त बिना अवकाश लिए अपने सेवाएं दे रहा है, उसे भुगतान होना चाहि। अर्वेन्द्र राजपूत, अवधेश तिवारी, नरेन्द्र दुबे, अटल उपाध्याय, मंसूर बेग, आलोक अग्निहोत्री, मुकेश सिंह, आलोक वाजपेयी, वीरेश शर्मा, प्रकाश सेन , आशुतोष तिवारी , सुरेंद्र जैन , डा. संदीप नेमा , देवेंद्र प्रताप सिंह , संत कुमार छीपा , श्यामबाबू मिश्रा , प्रमोद पासी , श्रीराम झारिया, गोविन्द विल्थरे, डीडी गुप्ता, रजनीश तिवारी , डीके नेमा, आरके पाराशर, मनोज सेन, धीरेन्द्र सोनी, संतोष तिवारी , प्रियांशु शुक्ला ने कार्रवाई पर बल दिया है। ऐसा न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। इस सिलसिले में रणनीति बनाई जा रही है। शीध्र ही उसका खुलासा कर दिया जाएगा।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local