जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि।

हिंदुओं का धर्मांतरण यदि नहीं रुका तो 2050 तक हिंदू अल्पसंख्यक हो जाएगा। देश में धर्मांतरण विरोधी कानून एवं जनसंख्या नियंत्रण कानून की जरूरत है। ये बात श्रीराम जन्मभूमि को मुक्त कराने वाले एवं श्री कृष्ण जन्मभूमि के अधिवक्ता हरि शंकर जैन एवं विष्णु शंकर जैन ने पत्रकार वार्ता के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि के बाद मथुरा, काशी, भोजशाला सहित लगभग 3000 मंदिरों के अवैध कब्जों को मुक्त कराना है। इन सभी मामलों की फाइलें तैयार होकर कोर्ट तक ले जाने की तैयारी है। उन्होंने कहा कि इतिहास में अन्याय हुआ और गुलामी के चि- अब तक मौजूद हैं। अधिवक्ता जैन के अनुसार बिना हंगामा किए उन कानूनों को रद्द कराना है, जो हिंदू राष्ट्र बनने में बाधक हैं। हमारा एकमात्र उद्देश्य संस्कृति और मूल्यों की रक्षा कर भारत को हिंदू राष्ट्र बनाए जाने की तरफ आगे बढ़ना है।

लव जिहाद पर भी बोले:

धर्मांतरण और लव जिहाद पर उन्होंने कहा कि लालच अथवा पैसे देकर यह कृत्य अपराध की श्रेणी में आता है। यूपी में कानून बन रहा है एमपी में भी यह कानून बनाने मुख्यमंत्री से चर्चा की जाएगी। उन्होंने इन मुद्दों पर केंद्रीय कानून बनाने की बात पर जोर दिया, ताकि राज्य सरकारें उन कानूनों को मानने को बाध्य हों। पत्रकार वार्ता में हिंदू समन्वयक हिंदू जनजागृति समिति के आनंद जाखोटिया ने कहा कि प्लेस ऑफ वरशिप एक्ट 1991 को समाप्त किया जाना चाहिए। तभी मंदिरों को कब्जा मुक्त कराया जा सकता है। पत्रकार वार्ता में हिंदू सेवा परिषद के प्रदेश अध्यक्ष अतुल जेसवानी ने हिंदू समाज को हिंदू राष्ट्र बनाने के लिए जन जागरण अभियान शुरू करने की बात कही। इस अवसर पर धीरज ज्ञानचंदानी, सौरभ जैन, उत्कर्ष रावत, नितिन सोनपाली, अक्षय झा, बबलू पटवा, पारस आदि उपस्थित थे।

Posted By: Sunil Dahiya

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस