जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जिला उपभोक्ता अदालत ने उपभोक्ता से अतिरिक्त वसूले गए 32 रुपये लौटाने का आदेश सुनाया। यही नहीं मानसिक पीड़ा व मुकदमे के खर्च बतौर 10 हजार रुपये का भुगतान करने का भी आदेश दिया गया है।

उपभोक्ता अदालत के अध्यक्ष राजेश श्रीवास्तव व सदस्य नागेंद्र चौरसिया की युगलपीठ के समक्ष मामले की सुनवाई हुई। इस दौरान आवेदक वैद्यनाथन नगर, जीसीएफ इस्टेट, जबलपुर निवासी अमित कुमार शर्मा की ओर से अधिवक्ता मनीष मिश्रा ने पक्ष रखा। उन्होंने दलील दी कि आवेदक ने बिग बाजार फ्यूटर रिटेल लिमिटेड, साउथ एवेन्यू माल, नर्मदा रोड, जबलपुर से 22 जनवरी, 2020 को घरेलू उपयोग के लिए कुछ वस्तुएं क्रय की थीं। उसने 500 रुपये का भुगतान किया।

घर जाकर जब खरीदी गई वस्तुओं के अंकित दाम का दिए गए बिल के साथ मिलान किया तो पाया कि उसे 32 रुपये कम लौटाए गए हैं। जो उत्पाद 68 रुपये का था, उसकी कीमत 100 रुपये वसूली गई। लिहाजा, अगले दिन शिकायत की गई। लेकिन विक्रेता ने कुछ भी सुनने से इन्कार कर दिया। लिहाजा, सेवा में कमी के रवैये के खिलाफ पहले अधिवक्ता के जरिये लीगल नोटिस दिया गया। जब कोई नतीजा नहीं निकला तो उपभोक्ता अदालत में केस दायर कर दिया।

-----------------------------

41 दिन में 5117 गिरफ्तारी: जबलपुर जोन के पांचों जिलों में 21 अक्टूबर से 30 नवंबर तक चलाए गए वारंट तामील अभियान के तहत जोन के पांचों जिलों में 41 दिनों में कुल 5117 गिरफ्तारी और 1208 स्थाई वारंट तामील किए गए। इसमें जबलपुर पुलिस ने 1752 वारंट तामील कराए। कटनी ने 339, छिंदवाड़ा ने 1086, सिवनी ने 585 और नरसिंहपुर पुलिस ने 5117 गिरफ्तारी वारंट तामील कराए। स्थाई वारंट की बात की जाए, तो जबलपुर पुलिस ने 626, कटनी पुलिस ने 195, छिंदवाड़ा पुलिस ने 147, सिवनी पुलिस ने 109 और नरसिंहपुर पुलिस ने 131 स्थाई वारंट तामील कराए। स्थाई वारंट में कई आरोपी 23 साल से भी अधिक समय से फरार थे।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local