Jabalpur News :जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि । एनपीएस को वापस लेने और पुरानी पेंशन को फिर से लागू किए जाने की मांग वर्षों से की जा रही है। विभिन्न संगठन इस मांग को लेकर अपने-अपने स्तर पर प्रयास कर रहे हैं। इसी कड़ी में सुरक्षा कामगार यूनियन इंटक के बैनर तले आंदोलन की रूपरेखा पर चर्चा की गई। इस चर्चा के दौरान विभिन्न सुरक्षा संस्थानों के श्रमिक नेताओं ने हिस्सा लिया। बता दें कि एनजेसीए की ओर से इसे लेकर एक कार्यक्रम भी जारी किया गया है।

न्यू पेंशन सिस्टम के विरोध में एनजेसीए द्वारा जारी कार्यक्रम को अमलीजामा पहनाने के लिए जबलपुर के सुरक्षा संस्थानों (ओएफके, व्हीएफजे, जीसीएफ, जीआईएफ, सीओडी एवं 506 वर्कशाप) के पदाधिकारियों की बैठक का गन कैरेज फैक्ट्री में आयोजित की गई। बैठक का संचालन करते हुए ओएफके के इंटक आनंद शर्मा ने बताया कि जनवरी से लेकर सितंबर तक कार्यक्रम एनजेसीए की ओर से जारी किया जा चुका है। इस में हमें पूरी ताकत से सहभागिता निभानी है।

बैठक को संबोधित करते हुए जय मूर्ति मिश्रा और अरुण दुबे ने बताया कि जहां-जहां कांग्रेसी सरकार बन रही है, वहां एनपीए समाप्त हो रहा है। यानी, ओपीएस को लागू कराए जाने की संभावना है। इसलिए हमें भी पूरी ताकत से इस अभियान को सफल बनाना है।

जारी कार्यक्रम के अनुसार 10 से 20 फरवरी तक प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर उन्हें अपनी मांगों से अवगत कराया जाएगा। इसी दौरान एक विशाल रैली भी निकाली जाएगी। जिसमें पुरानी पेंशन को लेकर आंदोलन कर रहे विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी और सदस्य शामिल होंगे।

बैठक में ये रहे शामिल

इस बैठक में विभिन्न संगठनों से भूपेंद्र तोमर, अमित चौबे, अखिलेश पटेल, अनिल गुप्ता, संतोष सोनी,

संतराम, राम रजक, सिद्धार्थ तोमर, नरेंद्र सिंह ठाकुर, अविनाश भटकर, अजय कुमार मिश्रा, हिमांशु कुमार, राकेश जायसवाल, महेंद्र रजक, मो. नसीम, जीजो जैकब, संतोष सिंह आदि शामिल रहे।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close