जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। बिल्डरों और कालोनाइजरों की मनमानी से स्टार गैलेक्सी फेस-1 में मकान खरीदने वाले अनेक लोग सालों से परेशान हैं। ऐसे ही लोगों में से कुछ बुजुर्ग कलेक्टर के पास अपना दर्द लेकर पहुंचे। उनकी पूरी बात सुनने के बाद कलेक्टर ने संबंधित बिल्डर को दो-टूक कहा कि जिनका पैसा आपने लिया है, उनको तो पैसा लौटाना पड़ेगा। नहीं तो आपी प्रापर्टी की कुर्की करवा दी जाएगी। इसके साथ ही उन्होंने अधीनस्थ अफसरों को भी सख्ती करने के लिए कहा।

दरअसल इन बुजुर्ग आवेदकों के पक्ष में रीयल इस्टेट रेग्युलेटरी अर्थारिटी (रेरा) की ओर से सालों पहले आरआरसी भी जारी हो चुकी है। लेकिन राजस्व विभाग का अमला उनकी मदद करने तैयार नहीं रहा। इन लोगों ने पूर्व में भी कलेक्टर से मुलाकात की थी, मामले को अपर कलेक्टर शेर सिंह मीणा ने जांच के दायरे में भी लिया था। इसके बाद बिल्डर ने दो लोगों को तो उनके पैसे दे दिए, लेकिन शेष के पैसे लौटाने के लिए वो तैयार नहीं है। लिहाजा कलेक्टर ने जहां बिल्डर से सीधी बात की। वहीं नायब तहसीलदार संदीप जायसवाल से कहा कि वो बिल्डर को अपने कार्यालय में बुलवाएं और उससे लिखित मेंं लें कि वह किस तारीख को किसका पैसा लौटाएगा। अगर वो आनाकानी करता है तो उसकी सम्पत्ति को कुर्क करने की कार्रवाई की जाए।

ये रहा है मामला

अमित चौबे, अस्मिता दुबे, पुरूषोत्तम माेर, विजय शंकर राय, विश्वदेव भट्टाचार्य, उउत्तम कुमार, एससी सिन्हा यूएस अग्रवाल आदि का कहना रहा कि उन्होंने 2016 में स्टार गैलेक्सी नामक कंट्रक्शन कंपनी के प्रोजेक्ट फेस-1 में फ्लेट बुक कराए थे। इन बुजुर्गों ने बिल्डर की मनमानी के खिलाफ रीयल इस्टेट रेग्युलेटरी अर्थारिटी (रेरा) में आवेदन लगाया, जहां से नवंबर 2019 में फैसला आया कि बिल्डर आवेदकों को 9 प्रतिशत सालाना ब्याज की दर से उनकी जमा पूंजी लौटाए। इसके बाद बिल्डर ट्रिब्युनल में चला गया। वहां से भी अक्टूबर-नवंबर 2021 में रेरा के आदेश को निरस्त करने से मना कर दिया गया। लेकिन बिल्डर ने इसके बावजूद पैसे नहीं लौटाए। इस मामले को संज्ञान में लेकर कलेक्टर ने कार्रवाई की बात कही थी।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close