जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। शहर में दिव्यांग बच्चों के लिए चलाए जा रहीं संस्थानों पर नजर रखें। यहां की गतिविधियों से लेकर बच्चों की देखभाल के लिए चलाए जा रहे कामों का समय-समय पर निरीक्षण किया जाए। यदि कोई कमी मिलती है तो तत्काल उस पर कार्रवाई हो। यह बात कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने कही।

जिला बाल कल्याण समिति की बैठक में कलेक्टर ने कहा कि अनचाहे बच्चों की देखभाल के लिए शासकीय अस्पतालों में क्रेडल रखा जाए, ताकि उनके माता-पिता उन्हें कचरे के ढेर या झाड़ियों में ना फेंके। पास्को एक्ट के तहत दर्ज अपराधों की जानकारी 24 घंटे के भीतर जिला बाल कल्याण समिति को देने के निर्देश दिए।

पास्को एक्ट के तहत दर्ज अपराधों की जानकारी 24 घंटे के भीतर जिला बाल कल्याण समिति को देने के निर्देश दिए।

बाल कल्याण समिति के सदस्यों के साथ बैठक करते हुए कलेक्टर ने कहा कि सभी अशासकीय संस्थाओं का नियमित तौर पर निरीक्षण किया जाए। किशोर न्याय अधिनियम के प्रावधानों के तहत गठित समिति की बैठक में कलेक्टर ने सदस्यों से कहा कि यह देखा जाना जरूरी है कि अनाथ एवं दिव्यांग बच्चों की देखरेख कर रही संस्थाओं का संचालन शासन के नियमों के मुताबिक हो रहा है या नहीं।

अनियमितता पाए जाने पर संस्था के विरूद्ध समय रहते कार्रवाई की जाए। इस दौरान अपर कलेक्टर सलोनी सिडाना तथा बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष एवं सदस्य मौजूद रहे। बाल कल्याण समिति दिव्यांग और अनाथ बच्चों की देखरेख कर रही अशासकीय संस्थाओं के निरीक्षण के दौरान यह भी देखा जाए कि इन्हें मिल रही सहायता या अनुदान की पात्रता इन संस्थानों को है या नहीं। निरीक्षण के लिए पंजीकृत संस्थाओं की सूची, सामाजिक न्याय विभाग में मिले निर्देश पर अमल कर पर जाेर दिया गया।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local