जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। हत्या के प्रयास के आरोप में जेल भेजे गए हिस्ट्रीशीटर अब्दुल रज्जाक पर वक्फ बोर्ड की करोड़ों की जमीन पर अवैध कब्जा करने के आरोप लगाए गए हैं। आरोप लगाने वालों का कहना है कि रज्जाक ने मध्य प्रदेश शासन के स्वामित्व की जमीन पर अवैध कब्जा कर वहां रहने वालों को डरा धमकाकर स्वयं भवन का निर्माण करवा लिया था। वक्फ बोर्ड की सरकारी जमीन पर कब्जा कर वह स्कूल व बारातघर का संचालन कर रहा है। जबकि शासकीय भूमि स्वामी मध्यप्रदेश शासन है तथा वक्फ सम्पत्ति अहस्तांतरणीय वक्फ बोर्ड भोपाल की है। जो मध्यप्रदेश राजपत्र 1989 पंजीयन क्रमांक 202 पर पंजीकृत है।

9 हजार 408 वर्गफीट जमीन पर नया मोहल्ला में स्थित है। उक्त भूमि पर रज्जाक ने तीन मंजिला भवन बनवाया है। शासकीय भूमि पर कब्जा कर वह लिटिल चैम्प स्कूल खोल रखा है। जहां दिन में मदरसा स्कूल व रात में बारातघर संचालित होता है। बारातघर का एक दिन का किराया 10 हजार रुपये वसूल किया जाता है। शिकायतकर्ता का दावा है कि प्रशासन जांच करे तो हकीकत सामने आ जाएगी। वर्तमान में भी उक्त भूमि राजस्व रिकार्ड में शासन मद में दर्ज है।

आसपास के 12 मकानों को खाली कराया: शिकायतकर्ता का आरोप है कि हिस्ट्रीशीटर रज्जाक ने अपने मकान से लगे 12 अन्य मकानों पर दबंगई से कब्जा कर लिया था। भवनों को खाली करवाकर उन्हें तुड़वाया और अपना आलीशान भवन बनवाया था। उक्त भवनों से लगी शासकीय भूमि पर भी उसने कब्जा कर रखा है। शिकायतकर्ता का कहना है कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर भूमाफिया अभियान चलाया गया था। हिस्ट्रीशीटर रज्जाक के अवैध निर्माणों को उस समय नहीं तोड़ा गया जिससे जिम्मेदार विभागों की भूमिका पर संदेह होता है। इतना ही नहीं रज्जाक ने शासन की भूमि पर अपने पिता के नाम पर करोड़ों रुपये का पार्क बनवा लिया है।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local