जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि।धनवंतरि नगर स्थित नालंदा पब्लिक स्कूल में फीस के लिए बच्चों के रिपोर्ट कार्ड रोकने का मामला सामने आया है। गुरुवार को कई विद्यार्थियों के अभिभावक स्कूल पहुंचे तो उन्हें रिपोर्ट कार्ड नहीं दिया गया। अभिभावकों का कहना था कि कोरोना की वजह से उनके व्यवसाय प्रभावित हुए हैं ऐसे में कुछ वक्त की मोहलत मांगी लेकिन प्रबंधन ने बिना बकाया फीस जमा किए रिपोर्ट कार्ड देने से इन्कार कर दिया। इधर सरकार लगातार स्कूलों को महामारी के दौर में फीस के लिए सख्ती नहीं करने के निर्देश जारी कर रही है लेकिन निजी स्कूल मनमानी पर उतारू है। इस संबंध में स्कूल के प्राचार्य से संपर्क करने का प्रयास किया गया लेकिन उनसे बात नहीं हुई।

सरकार ने फीस के लिए दबाव नहीं बनाने के निर्देश दिए थे : ज्ञात हो कि मप्र शासन स्कूल शिक्षा विभाग उपसचिव केके द्विवेदी ने पूर्व में आदेश जारी किया सभी निजी स्कूलों को अभिभावकों पर फीस के लिए दबाव नहीं बनाने के निर्देश दिए हुए हैं। कोई भी स्कूल फीस न भर पाने वाले बच्चों को परीक्षा, परिणाम नहीं रोक सकता है। यदि कोई स्कूल ऐसा करता है तो ऐसे स्कूलों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश हैं। यह आदेश समस्त सीबीएसई, आइसीएसई, मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल एवं अन्य बोर्ड से संबद्ध गैर अनुदान प्राप्त अशासकीय विद्यालयों पर समान रूप से लागू होगा। निजी विद्यालय प्रबंधन लंबित फीस की किस्त के भुगतान न किए जाने के आधार पर किसी भी विद्यार्थी को आनलाइन क्लासेस या विद्यालय में भौतिक रूप से संचालित कक्षाओं में भाग लेने से नहीं रोक सकता है। इस आधार पर विद्यार्थियों का परीक्षा परिणाम को भी नहीं रोका जा सकेगा। बताया जाता है प्राइमरी, मिडिल कक्षाओं से लेकर कक्षा 9वीं से 12वीं में पढऩे वालों छात्रों से फीस जमा न करने पर दबाव डालकर कक्षाओं, परीक्षा से वंचित किया जा रहा था इसकी शिकायतें अभिभावकों द्वारा विभाग, शासन से की गई थी।

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags