जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। संपत्तिकर और नल कर न चुकाने वाले बकायादारों के खिलाफ नगर निगम ने नजरें टेढ़ी कर ली है। यदि अब भी बकाया कर दाताओं ने कर जमा नहीं किया तो उनकी संपत्ति कुर्क की जाएगी और नल कनेक्शन भी काट दिए जाएंगे। दरअसल चालू वित्तीय वर्ष में 171 करोड़ रुपये का राजस्व जुटाने के लिए नगर निगम दिसंबर माह से वसूली अभियान शुरू करेगा। निगम के राजस्व विभाग ने शहर के 10 हजार बकायादारों से 104 करोड़ रुपये का संपत्तिकर वसूलने का लक्ष्य निर्धारित किया है। सभी बकायादारों को नोटिस भेजे जा रहे हैं वहीं मोबाइल पर एसएमएस कर जल्द से जल्द बकाया संपित्तकर व जल शुल्क जमा करने कहा जा रहा है। इसके बाद भी यदि बकायादारों ने कर नहीं चुकाया तो दिसंबर माह के पहले सप्ताह से ही उनकी संपत्ति कुर्क करने और नल कनेक्शन काटने की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी।

50 करोड़ पानी का बकाया -

बताया जाता है कि 109 करोड़ के बकाया कर में पानी का ही सिर्फ 50 करोड़ रुपये बकाया है। करदाताओं ने जल शुल्क ही जमा नहीं किया है। शहर मे एक लाख 60 हजार नल कनेक्शन हैं। इसमें नियमित रूप से करीब सवा लाख ही शुल्क जमा कर रहे हैं।

कर जमा न करने वालों में नेता, निगम के कर्मचारी भी -

नगर निगम ने 104 करोड़ रुपये का संपत्तिकर और जलशुल्क वसूलने के लिए जिन 10 हजार बकायादारों की सूची बनाई है उसमें कई बड़े बकायादार है जिन पर चार लाख रुपये तक का कर बकाया है। इनमें कुछ नेता तो कुछ नगर निगम के कर्मचारी भी शामिल है। जो संपत्तिकर पिछले पांच से छह वर्ष से नहीं चुका रहे हैं।

-------

मुफ्त का पानी भी पी रहे, करा लिए है दो से तीन नल कनेक्शन

इतना ही नहीं नगर निगम की उदासीनता के कारण ऐसे भी छुटभैया नेता व नगर निगम के कर्मचारी हैं जो मुफ्त का पानी पी रहे हैं। तथाकथित नेता-कर्मचारियों ने 10 वर्ष से ज्यादा समय से पानी का कर नहीं चुकाया है। जबकि अपने घरों में दो से तीन नल कनेक्शन तक लगवा लिए हैं। नगर निगम भी इनके खिलाफ कार्रवाई नहीं कर पा रहा है। यही कारण है का जलशुल्क से ही 50 करोड़ रुपये वसूलना है।

--------

171 करोड़ का लक्ष्य, अब तक 67 करोड़ की हो पाई वसूली

- 171 करोड़ रुपये का अप्रैल 2023 तक वसूलने का लक्ष्य रखा गया है।

- 121 करोड़ संपत्ति कर वसूलना है

- 50 करोड़ जलशुल्क वसूलना है

-------

- 67 करोड़ ही अब तक हो पाई राजस्व वसूली

- 50 करोड़ रुपये संपत्ति कर अब खजाने में जमा हुआ है

- 17 करोड़ रुपये जलशुल्क से आए हैं

---------

राजस्व लक्ष्य पूरा करने के लिए 10 हजार बकाया करदाताओं को नोटिस भेजे जा रहे हैं एसएमएस भी किए जा रहे हैं। इसके बाद भी कर जमा नहीं किया तो दिसंबर माह से वसूली अभियान के तहत संपत्ति कुर्क की जाएगी नल कनेक्शन भी काटने की कार्रवाई की जाएगी। -पीएन सनखेरे, उपायुक्त राजस्व, नगर निगम

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close