जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नगर निगम के खजाने में पैसे की कमी नहीं है। संपत्ति, पानी व अन्य मदों से निगम का खजाने में पर्याप्त धनराशी आ चुकी है। बावजूद इसके नगर निगम ने ठेकेदारों का भुगतान रोक रखा है। निगम को 50 करोड़ का भुगतान करना है। जिसमें ठेकेदारों का ही 30 करोड़ रुपये से ज्यादा का भुगतान बकाया है। निर्माण ठेकेदारों को पेमेंट का भुगतान न किये जाने से शहर विकास के काम ठप पड़े है।

त्योहार पर दी थी राहत: हालांकि दीपावली त्योहार के मद्देनजर नगर निगम ने ठेकेदारों को 20 फीसद राशि का भुगतान कर कुछ राहत दी थी। नगर निगम ठेकेदारों को करीब छह करोड़ रुपये का भुगतान किया गया। जबकि अन्य विभागों को भी 14 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया था।

भुगतान न होने से ठप पड़े हैं काम: विदित हो कि कोरोना का हवाला देते हुए नगर निगम पिछले दो वर्षों से ठेकेदारों को भुगतान नहीं किया है। केवल लोक निर्माण विभाग का ही 30 करोड़ रूपये से ज्यादा का भुगतान बाकी है। ठेकेदारों ने भी पुराना भुगतान न किए जाने के कारण निर्माण व विकास कार्य बंद कर दिए हैं। न तो सड़कों की मरम्मत हो रही है न बिजली उपकरण बदले जा रहे हैं। शहर में इन दिनों सिर्फ स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत प्रस्तावित कार्य ही कराए जा रहे हैंं। विदित हो कि ठेकेदार भुगतान को लेकर पहले भी नगर निगम में प्रदर्शन कर चुके हैं। कुछ दिन पूर्व तो ठेकेदारों ने नगर निगम परिसर में डेरा डाल दिया था। आधी रात तक ठेकेदार बैठे रहे। किसी तरह उन्हें समझा कर रवाना किया गया था ।

-------

त्योहार को द्ष्टिगत रखते हुए ठेकेदारों को 20 फीसद राशि का भुगतान किया गया है। शेष भुगतान भी जल्द किया जायेगा। विकास कार्य प्रभावित नही होंगे।

महेश कोरी,अपर आयुक्त् वित्त नगर निगम

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local