जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कांचघर बीमा अस्पताल के पीछे स्थित हाउसिंग बोर्ड कालोनी के नागरिक पिछले कई वर्षों से गंदा पानी पीने को मजबूर है। उसमें भी कालोनीवासियों को एक टाइम ही पानी मिल पा रहा है। नगर निगम के अधिकारियों को भी इसकी जानकारी है। लेकिन अधिकारी भी सिर्फ आश्वासन दे कर अपनी जिम्मेदारी से बच रहे हैं।

भूकंप से जर्जर हो गई टंकी, भूमिगत टैंक से हो रही जलापूर्ति : दरअसल कालोनी में जिस टंकी से पानी सप्लाई किया जाता था। वह करीब 40 साल पुरानी बताई जा रही है। सन 1997 को आए जोरदार भूकंप के बाद से अब टंकी पूरी तरह जर्जर हो चुकी है। टंकी अब नहीं भरी जा रही लेकिन टंकी के नीचे पंप हाउस अब भी संचालित है। टंकी के नीचे ही भूमिगत टैंक में पानी भरकर कालोनी में आपूर्ति की जा रही है। लेकिन ये पानी इतना गंदा है कि बिना फिल्टर किए पीने से तबीयत जरूर खराब हो सकती है। क्योंकि जमीन के भीतर बने जिस टैंक से कालोनी में पानी सप्लाई किया जाता है वह चारों तरफ से खुला और गंदगी से सराबोर है। टैंक के आस-पास सफाई न होने से यहां झाडि़यां उग आई हैं। टैंक के पानी कीड़े, मकोड़े, जीव-जंतु सहित आस-पास की गंदगी समा रही है।

पांच हजार लोगों की है मजबूरी : कालोनी के करीब पांच हजार वाशिंदे यही गंदा पानी पीने मजबूर हैं। उन्हें गंदा पानी तो मिल ही रहा है उसमें भी एक समय ही पानी दिया जा रहा है। पंप हाउस आपरेटरों का कहना है कि टैंक जब भरता है तभी पानी देते हैं। जर्जर टंकी के नीचे ही पंप हाउस होने के कारण मोटर से प्रेशर नहीं बन पाता। कहने को तो पंप हाउस में तीन कर्मचारी हैं जिसमें एक-दो कर्मचारी अक्सर गायब ही रहते हैं। जिससे पानी सप्लाई का टाइम भी निश्चित नहीं रहता।

नई टंकी का भूमिपूजन हुआ, काम अब तक शुरू नहीं : कालोनी वासियों ने बताया कि जर्जर हो चुकी टंकी को देखते हुए नगर निगम ने नई टंकी स्वीकृत की थी। नई टंकी बनाने के लिए पास ही जमीन भी चिन्हित कर ली गई। यहां तक की भूमिपूजन भी कर लिया गया। लेकिन करीब आठ से 10 साल बीत जाने के बाद भी टंकी का निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local