जबलपुर। जबलपुर से रवाना होने वाली ट्रेनों के रैक ने इन दिनों पैसेंजर को उलझन में डाल दिया है। उन्हें समझ में नहीं आ रहा कि कौन सा रैक किस ट्रेन में जाएगा। जबलपुर-रीवा इंटरसिटी और जबलपुर-अंबिकापुर एक्सप्रेस दोनों ट्रेनों में एक ही रैक लगाए जा रहे हैं, जिससे ट्रेनों की टाइमिंग पटरी से उतर गई है। ट्रेनें लेट आने की वजह से दूसरी ट्रेन भी लेट रवाना हो रही है। रीवा से चलकर जबलपुर आने वाली इंटरसिटी ट्रेन 22190 सुबह 10.15 पर जबलपुर आती है। इस ट्रेन के रैक का मेंटेनेंस करने के बाद इन्हें दोपहर 2 बजे रवाना होने वाली अंबिकापुर एक्सप्रेस में लगा दिया जाता है। इस दौरान न कोच के बोर्ड बदले जाते हैं न ही समय पर इनका मेंटेनेंस होता है। इसका असर ट्रेन के समय पर होता है।

अमरावती और महाकौशल ट्रेन का भी यही हाल

नागपुर से जबलपुर आने वाली अमरावती एक्सप्रेस के रैक को महाकौशल एक्सप्रेस में लगाकर जबलपुर से ट्रेन रवाना होती है। कई बार इसके बोर्ड ट्रेन से नहीं निकाले जाते। मेंटेनेंस के दौरान ट्रेन के कोच की लंबाई अधिक होने का कारण बताकर डिस्प्ले बोर्ड और ट्रेन नंबर भी नहीं बदलते, इससे इन ट्रेनों में समय करने वाले पैसेंजर उलझन में रहते हैं। उन्हें समझ में नहीं आता कि ट्रेन कटनी की ओर जाएगी या फिर इटारसी की ओर। कई बार ट्रेन में चढ़ने के बाद पता चलता है कि जिस ट्रेन से जाना है, वह यह ट्रेन नहीं है।

दो ट्रेन- एक रैक

पहला रैक

- ट्रेन 22189 जबलपुर-रीवा इंटरसिटी

- ट्रेन 11265 जबलपुर-अंबिकापुर

दूसरा रैक

- ट्रेन 12159 अमरावती शाम 5.45

- ट्रेन 12189 महाकौशल शाम 6.10

तीसरा रैक

- ट्रेन 22181 गोंडवाना, दोपहर 3 बजे

- ट्रेन 22192 ओवरनाइट, रात 11.55

चौथा रैक

- ट्रेन 12194-93 यशवंतपुर सुबह 6.45 पर

- ट्रेन 11449-50 जम्मूवती, सुबह 6.30 पर