तहसील कार्यालय के चक्कर काट रहे किसान

मुर्रई। नईदुनिया न्यूज

सेवा सहकारी समिति मुर्रई में कई किसानों का गेहूं की जगह मटर चना मसूर का रजिस्ट्रेशन कर दिया गया है। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में हुई इस गड़बड़ी से किसानों भारी दिक्कतें हो रही है। किसान रजिस्ट्रेशन सुधरवाने तहसील कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं। लेकिन वहां किसी तरह का बदलाव करने मना किया जा रहा है।

किसानों ने बताया कि ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में गड़बड़ी के सुधरवाने तहसीलदार, एसडीएम के चक्कर लगाकर पीड़ित किसान हताश हो गए हैं। मुर्रई के किसानों को कई किलोमीटर किराया लगाकर तहसील कार्यालय तक जाना पड़ता है लेकिन वहां जाने पर कटंगी नायब तहसीलदार बड़े तहसीलदार तलैया साहब जाने की सलाह दे देते हैं।

किसान मनोज कुमार ने बताया कि अपना आवेदन लेकर पाटन कार्यालय गए तो तहसीलदार साहब ने कह दिया कि यह कार्य मेरे क्षेत्र में नहीं आता है। इसी तरह कृष्ण चौबे ने 6 हेक्टेयर 71 आरे रजिस्ट्रेशन कराया था, जिसमें मसूर, मटर दर्शा दी गई। हल्का पटवारी द्वारा आवेदन में सुधार किया जा रहा है, लेकिन अधिकारी भटका रहे हैं। ऐसे बहुत से किसान हैं जिनके रकवा मुर्रई में हैं। उसके बाद भी किसी का रजिस्ट्रेशन लोहारी कर दिया गया तो किसी का बोरिया ट्रांसफर कर दिया गया है। किसान कलेक्ट्रेट के चक्कर लगा रहे हैं। जिन किसानों को तहसीलदार लिख कर देते हैं, उन्हीं किसानों के ट्रांसफर हो रहे हैं। बाकी सब भटक रहे हैं। पाटन तहसीलदार के रवैए से किसानों में आक्रोश है। किसानों ने प्रशासन से अति शीघ्र रजिस्ट्रेशन में सुधार करने की मांग की है। मांग करने वालों में जागेश्वर पटेल, पहाड़ी सिंह राजपूत, गोविंद नारायण, सुखराम पटेल, देवेंद्र पटेल आदि उपस्थित रहे।