जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

ट्रेन से लेकर स्टेशन तक यात्रियों की टिकट चेकिंग की जिम्मेदारी संभालने वाले चेकिंग स्टॉफ की समस्याओं का समाधान करने पश्चिम मध्य रेलवे मजूदर संघ ने मंथन किया। स्टॉफ की प्रमुख मांग है कि उन्हें भी रेलवे के रनिंग स्टॉफ को मिलने वाली सुविधाएं दी जाएं। उनकी समस्याओं और मांगों पर बुधवार को मजदूर संघ ने वरिष्ठ पदाधिकारियों ने मंथन किया। मंडल सचिव डीपी अग्रवाल ने स्टॉफ की समस्याओं को रखा। इस दौरान उन्हें फील्ड में आने वाली परेशानियों से लेकर रेलवे बोर्ड द्वारा स्टॉफ के हित में अभी तक नहीं लिए गए निर्णयों के समाधान की बात रखी।

पश्चिम मध्य रेलवे मजदूर संघ के महामंत्री अशोक शर्मा ने बताया कि एनएफआईआर और पमरे एमएस द्वारा चेकिंग स्टॉफ से जुड़े मुद्दों को हमेशा से उठाया जाता रहा है। उन्होंने चेकिंग स्टॉफ के लिए किए गए कामों और आगामी योजनाओं की भी जानकारी दी।

विजिलेंस न करें काम में जबरन हस्तक्षेप

अशोक शर्मा ने बताया कि नई गाड़ियों के साथ चेकिंग स्टॉफ के नए पदों का सृजन कराने से लेकर ग्रेड पे 4600 से लेकर 4800 पर अपग्रेड करना, टीटीई रेस्ट रूम को रनिंग स्टॉफ के रूम की तरह विकसित कर, खाने की बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने, विजिलेंस विभाग का काम में जबरन हस्तक्षेप नहीं करने जैसे काम किए गए हैं। मजदूर संघ जल्द ही टिकट चेकिंग स्टॉफ को रनिंग स्टॉफ का दर्जा देने की मांग बोर्ड में उठाएगी। इस दौरान कार्यकारी महामंत्री सतीश कुमार, अध्यक्ष एसएन शुक्ला, सविता त्रिपाठी के अलावा चेकिंग स्टॉफ की ओर से धीरू मिश्रा, पप्पू मिश्रा, अवधेश तिवारी, पीके पांडे आदि मौजूद रहें।