जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

अधारताल स्टेशन पर एक से दूसरे प्लेटफार्म में जाने के लिए फुट ओवरब्रिज नहीं है। यात्रियों को प्लेटफार्म एक से दो पर आने के लिए पटरी पार करना पड़ता है। जीआरपी की टीम ने जब यहां की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया तो इस व्यवस्था को यात्रियों के लिए खतरनाक बताया। इसके बाद जबलपुर रेल मंडल ने निर्णय लिया है कि 1 जुलाई से लगने जा रहे मेगा ब्लॉक में अधारताल से जाने वाली तीन ट्रेनों को प्लेटफार्म 1 से रवाना किया जाएगा और इसी प्लेटफार्म पर लिया जाएगा। मुख्य रेलवे स्टेशन से महज 5 किमी दूर बने इस स्टेशन में यात्री व्यवस्था के नाम पर सिर्फ दो ट्रैक लेवल प्लेटफार्म है। गौरतलब है कि नईदुनिया ने यात्रियों की इस समस्या को प्रमुखता से उठाया था जिसे अधिकारियों ने गंभीरता से लिया और ट्रेक परिवर्तित न करने का निर्णय लिया।

अभी सिर्फ तीन ट्रेनों को रवाना करेंगे

जबलपुर से कटनी की ओर जाने वाली ट्रेनों को मेगा ब्लॉक के दौरान मुख्य रेलवे स्टेशन की बजाए अधारताल स्टेशन से रवाना किया जाएगा। इसमें फिलहाल 3 इंटरसिटी ट्रेनों को लिया गया है। इसमें रीवा इंटरसिटी, सिंगरौली और अम्बिकापुर इंटरसिटी शामिल है। इन ट्रेनों को न सिर्फ यहां से रवाना किया जाएगा बल्कि जबलपुर आने वाली ट्रेनों को यहां लाकर समाप्त किया जाना है। रेलवे के सभी विभागों ने इसकी समीक्षा भी पूरी कर ली है।

टिकट के लिए एटीवीएम मशीन लगेंगी

इस स्टेशन पर सिर्फ एक ही टिकट काउंटर है, जो सिर्फ निर्धारित समय पर खुलता और बंद होता है, लेकिन रेलवे ने एक माह के लिए इस काउंटर को 24 घंटे खोलने का निर्णय लिया है। वहीं इसके साथ प्लेटफार्म 1 के सर्कुलेशन एरिया में एटीवीएम मशीन भी लगाई जा रही है, ताकि ट्रेनों में सवार होने वाले जनरल कोच के यात्री, इसकी मदद से टिकट ले सकें। अभी यहां एक भी एटीवीएम मशीन नहीं हैं।

...........

अधारताल स्टेशन पर प्लेटफार्म बदलने के लिए फुट ओवरब्रिज नहीं है। ऐसे में हमने निर्णय लिया है कि मेगा ब्लॉक के दौरान जिन ट्रेनों को यहां से रवाना किया जाना है वे प्लेटफार्म 1 से जाएंगी और आएंगी।

-बसंत शर्मा, सीनियर डीसीएम, जबलपुर रेल मंडल

Posted By: Nai Dunia News Network