जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। फेसबुक पर लड़की बनकर 12वीं के छात्र से दोस्ती करने के बाद उसे ब्लैकमेल करने वाले आरोपित को राज्य सायबर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। एक-दूसरे का चेहरा देखे बगैर सोशल मीडिया पर की गई दोस्ती का अंजाम क्या होगा इसका अंदाजा छात्र को नहीं था, लिहाजा आरोपित के बहकावे में आकर उसने अपनी अश्लील फोटो शेयर कर दी।

नाबालिग छात्र की अश्लील फोटो हाथ लगते ही आरोपित उसे ब्लैकमेल करने लगा। आरोपित ने धमकाया कि यदि उसके मुताबिक काम नहीं हुआ तो वह अश्लील फोटो सोशल मीडिया पर शेयर कर देगा।

गिरफ्त में आया तो खुले कई राज

सायबर पुलिस की गिरफ्त में आए विजय नगर निवासी भुवनेश बर्मन (20) पिता स्व. चंद्रशेखर बर्मन के और कई राज खुले। आरोपित ने स्वीकार किया कि उसने फेसबुक पर लड़कियों की फोटो व नाम का इस्तेमाल कर कई आईडी बनाई है।

अलग-अलग आईडी से कम उम्र के लड़के-लड़कियों को फें्रड रिक्वेस्ट भेजकर दोस्ती करने के बाद उनसे अश्लील फोटो प्राप्त कर लेता था, उसके बाद पैसों की मांग कर उन्हें ब्लैकमेल करता था। अधारताल क्षेत्र निवासी पीड़ित 12वीं के छात्र से उसने जान्हवी सिंह नाम की आईडी बनाकर दोस्ती की थी।

अश्लील चैटिंग के बाद मांगी थी फोटो

आरोपित ने बताया कि 12वीं का छात्र उसके साथ अश्लील चैटिंग में बराबर जवाब देता था। देर रात मैसेंजर पर अश्लील बातें कर वह छात्र को उत्तेजित करता और उसी दौरान उसकी अश्लील फोटो प्राप्त कर ली। अन्य लड़के-लड़कियों की अश्लील फोटो प्राप्त करने के लिए उसने यही हथकंडा अपनाया था। अधारताल निवासी छात्र भी उससे अश्लील बातचीत करने में रुचि लेने लगा था। सायबर पुलिस ने संभावना जताई है कि गिरफ्त में आए आरोपित के खिलाफ कुछ और शिकायतें मिल सकती हैं।

कई फर्जी आईडी बनाई

आरोपित भुवनेश बर्मन ने कई फर्जी फेसबुक आईडी बनाई है। कड़ाई से पूछताछ में उसने पुलिस के समक्ष स्वीकार किया और तमाम फर्जी आईडी की जानकारी दी, जिसे ब्लॉक कर दिया गया। आरोपित ने बताया कि ब्लैकमेल करने की धमकी के बाद यदि कोई लड़का-लड़की उसे ब्लॉक करता तो वह दूसरी फर्जी आईडी के मैसेंजर से मैसेज भेजकर उसे धमकाता था।

बहन द्वारा खरीदी गई सिम का दुरुपयोग

12वीं के छात्र की शिकायत पर राज्य सायबर पुलिस निरीक्षक विपिन ताम्रकार, एसआई श्वेता सिंह ने जांच शुरू की तो पता चला कि आरोपित भुवनेश ने जिस मोबाइल सिम का इस्तेमाल कर फेसबुक आईडी बनाई गई थी वह उसकी बहन की आईडी पर खरीदी गई थी।

इनकी रही भूमिका

प्रकरण की जांच कर आरोपित की गिरफ्तारी में निरीक्षक विपिन ताम्रकार, उप निरीक्षक श्वेता सिंह, आरक्षक अजीत गौतम, सतीश, अवनी की भूमिका रही।

बच्चों को मोबाइल देते समय चाइल्ड मोड का उपयोग करना चाहिए। सोशल मीडिया पर किसी भी अनजान व्यक्ति को अपनी व परिवार की फोटो शेयर करने से बचना चाहिए। माता-पिता को चाहिए कि वे कम उम्र के बच्चों को सोशल मीडिया का उपयोग करने से रोकें। सोशल मीडिया पर प्राइवेसी सेटिंग रखना जरूरी है। -अंकित शुक्ला, एसपी राज्य सायबर पुलिस

मध्‍यप्रदेश में रियायती दर के राशन में फर्जीवाड़े की आशंका, होगा सत्यापन

Madhya Pradesh : 108 करोड़ के कर्ज माफी घोटाले में शिवराज सरकार ने दोषियों के खिलाफ बरती थी नरमी