जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

देश की सभी निर्माणियों की हड़ताल ने स्वदेशी तकनीक से बनीं 'सारंग' तोप (130एमएम/45 कैलिबर) के परीक्षण (टेस्टिंग) की तारीख बदल दी है। वाहन निर्माणी जबलपुर (वीएफजे) में सोमवार से इस तोप को 130एमएम से बढ़ाकर 155एमएम बनाने का काम दोबारा शुरू किया जाएगा। उम्मीद है कि वीएफजे में उन्नत हुई पहली सारंग तोप 2 माह बाद परीक्षण के लिए इटारसी फायरिंग रेंज में भेजी जाएगी। सैन्य परीक्षण में इस तोप की सफलता वीएफजे को व्हीकल एण्ड गन फैक्टरी के नाम से पहचान दिलाएगी।

रक्षा मंत्रालय ने वीएफजे को वित्तीय वर्ष 2019-20 में 300 सारंग तोप को अपग्रेड करने का लक्ष्य दिया है। सैन्य वाहन निर्माणी के 'गन शॉप' में कार्यरत कर्मचारियों ने 15 दिन पहले 3 सारंग तोपों को अपग्रेड बनाने उन्हें खोलकर स्टैंड पर रख दिया। फिर इन तोपों के 130एमएम के बैरल हटाया और आयुध निर्माणी कानपुर से नए बैरल मंगवाए हैं। सारंग के लिए 155एमएम के नए बैरल की आपूर्ति होने के पहले ही देश की सभी निर्माणियों में हड़ताल शुरू हो गई। जबकि 5 तोपें निर्माणी परिसर में अपग्रेडेशन के इंतजार का रास्ता देख रहीं हैं। इसलिए वीएफजे प्रशासन जल्द ही ओएफके कानपुर से संपर्क करके नए बैरल और अन्य सामग्री भेजने की मांग करेगा। इसके बाद सारंग के बैरल व अन्य हिस्से बदलने का काम किया जाएगा।

उत्साह के साथ करते हैं काम

रक्षा मंत्रालय के निर्देश पर वीएफजे में बनने वाले सैन्य वाहन एलपीटीए और स्टेलियन को नॉनकोर ग्रुप में शामिल कर लिया गया। निर्माणी में इन दोनों वाहनों के उत्पादन पर प्रतिबंध लगने से काम की कमी रही। इस निर्माणी को नया काम सारंग तोप को अपग्रेड करने का मिला है, जिसे कर्मचारी उत्साह के साथ करते हैं।

दो निर्माणियां करेंगी अपग्रेड

ओएफबी ने वीएफजे व जीसीएफ को संयुक्त रूप से सारंग तोप अपग्रेड करने का काम सौंपा है। इन दोनों निर्माणियों के वरिष्ठ अधिकारी आपसी तालमेल बनाकर तय समय में काम पूरा करेंगे।

सारंग की यह विशेषता

सैन्य वाहन के पिछले हिस्से में लगाकर (टो) करके ऊबड़-खाबड़, रेतीले रास्तों में आसानी से ले जाया जा सकता है। यह तोप वजन में हल्की व बेहद शक्तिशाली है, जिससे 27 से 38 किमी. दूर मौजूद दुश्मनों पर आसानी से हमला किया जा सकता है।

दो जवान ही काफी

सारंग तोप का संचालन करने के लिए सिर्फ 2 जवान ही काफी हैं। इस तोप को युद्ध मैदान में सामने लाए बिना ही दुश्मन पर सुरक्षित हमला करना आसान है। तो उन्नत तोप की मारक क्षमता भी सटीक होगी।

वर्जन...

निर्माणी के गन शॉप में 3 सारंग तोप स्टैंड पर रखी हैं। निर्माणी के कर्मचारी इन तोपों के बैरल बदलने तैयार रहे, लेकिन हड़ताल हो गई। इस निर्माणी में अपग्रेड पहली तोप नवंबर तक फायरिंग के लिए इटारसी भेजी जा सकती है।

- एके राय, पीआरओ, वीएफजे