जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। होटल, अस्पताल या घरों में जमा पानी में यदि डेंगू मच्छर के लार्वा मिले तो जेब ढीली करनी होगी। नगर निगम लार्वा मिलने पर संबंधितों से बतौर जुर्माना 5 हजार से 50 हजार रुपए तक वसूलेगा। निगम का जांच दल होटल, अस्पताल और आवासीय परिसरों की जांच करने शुक्रवार से निकलेगा।

दूसरी टीम मच्छरों का खात्मा करने हर गली, मोहल्ले और कॉलोनियों में फॉगिंग मशीनों से कैमिकल युक्त धुएं और कीटनाशक दवाओं का छिड़काव करेगी। मच्छरों को मारने के लिए नगर निगम ने इस बार कीटनाशक दवाओं का डबल डोज देने का निर्णय लिया है।

डेंगू, मलेरिया की रोकथाम के लिए मंगलवार को निगमायुक्त आशीष कुमार ने कंटगा स्थित कार्यालय में नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग की बैठक में अधिकारियों को हिदायत देते हुए कहा कि इस अभियान में किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। बैठक में जिला स्वास्थ्य अधिकारी, मलेरिया उन्मूलन अधिकारी नीता मिश्रा अपर आयुक्त टीएस कुमरे, उपायुक्त राकेश अयाची, अंजू सिंह, मुख्य विधि अधिकारी अनिल मिश्रा कार्यपालन यंत्री अजय शर्मा, पुरुषोत्तम तिवारी, पीएन सनखेरे, नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी भूपेंद्र सिंह मौजूद रहे।

मच्छरों से निपटने ऐसे चलेगा अभियान

- होटलों, अस्पताल, निजी प्रतिष्ठान, शॉपिंग मॉल और आवासीय परिसरों का आकस्मिक निरीक्षण किया जाएगा। लार्वा पाए जाने पर 5 हजार से अधिकतम 50 हजार तक का जुर्माना लगाया जाएगा। जितने स्पॉट पर लार्वा पाया जाएगा। उस हिसाब से ही जुर्माना वसूला जाएगा।

- नाला नालियों की सफाई, कीटनाशक दवाईयों का नियमित छिड़काव कराने, फॉगिंग मशीनों के माध्यम से सघन, घने और सार्वजनिक स्थलों और कॉलोनियों में धुआं किया जाएगा।

- डेंगू, मलेरिया की रोकथाम के लिए आम जन को जागरूक करने संदेशों का प्रचार-प्रसार किया जाएगा।

3 दिन में निपटाए प्रकरण

निगमायुक्त ने मानस भवन स्मार्ट सिटी कार्यालय में अधिकारियों की फिर एक बैठक ली। जिसमें जनहित से संबंधित विषयों के संबंध में प्रकरणों पर चर्चा कर समीक्षा की गई। उन्होंने सीएम हेल्पलाईन, जनसुनवाई सहित जनहित के प्रपत्रों को तीन दिवस के भीतर निराकरण करने के निर्देश दिए।

Posted By: Nai Dunia News Network