जबलपुर। मप्र स्टेट ऑप्थेल्मिक सोसायटी द्वारा 18 से 20 अक्टूबर तक स्टेट कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया। जहां लेजर एंड रेफ्रेक्टिव सर्जन दादा वीरेंद्रपुरी जी आई इंस्टीट्यूट डॉ. अर्पिता स्थापक ने पिछले 1वर्ष में मोतियाबिंद के ऑपरेशन पर रिसर्च पेपर 'केटरेक्ट सर्जरी केंसलेशन रेट इन चेरिटेबल अस्पताल एंड फैक्टर्स रिसपॉन्सिबल फॉर इट' विषय पर प्रस्तुत किया। जिसमें डॉ. अर्पिता को बेस्ट पेपर पर ऑप्थेल्मोलॉजी के प्रतिष्ठित डॉ. बी शुक्ला अवार्ड से सम्मानित किया गया।

इसी कॉन्फ्रेंस में डॉ. पवन स्थापक ने मोतियाबिंद की नवोदित तकनीक फेम्टो सेकंड लेजर मोतियाबिंद ऑपरेशन पर, डॉ. आयुष टंडन ने न्यूअर टैक्नीक टू डायग्नोस ढंड प्रिवेंट फंगल केरेटाइटिस इन रूरल एरिया, डॉ. रीतेश शुक्ला ने एडवांस स्टेज ऑफ ग्लूकोमा एंड हाउ टू प्रिवेंट विजुअल लॉस व डॉ. अपूर्वा स्थापक ने मोस्कन में प्रायमरी एंगल क्लोजर ग्लूकोमा कोरिलेसन आफ आई ओपीसीडीआर और विजुअल फील्ड डिफेक्ट पर शोध प्रस्तुत किया।

Posted By: Nai Dunia News Network