जबलपुर। मप्र तृतीय वर्ग शसकीय कर्मचारी संघ अध्यापक प्रकोष्ठ ने आरोप लगाया है कि सातवें वेतनमान के निर्धारण को लेकर प्राचार्य उदासीन हैं। प्रकोष्ठ के प्रांतीय संयोजक मुकेश सिंह ने बताया कि मप्र शासन द्वारा दीपावली की पूर्व संध्या पर अध्यापकों को दीपावली का तोहफा देते हुए नवंबर से सातवां वेतनमान दिए जाने के आदेश जारी किए गए थे। आदेश जारी होने के बाद भी जिले के प्राचार्यों के उदासीन रवैए से अध्यापकों में रोष है। जिले के अधिकांश प्राचार्यों द्वारा अध्यापकों से आज दिनांक तक वेतन निर्धारण का वचन पत्र भरवाने की कार्रवाई प्रारंभ नहीं की गई है। जिससे इस माह सातवें वेतनमान का निर्धारण कराया जा सकें। प्रकोष्ठ के राकेश दुबे, श्याम नारायण तिवारी, गनेश उपाध्याय, मो.तारिक, धीरेंद्र सोनी, तरुण पंचौली आदि ने जिला शिक्षा अधिकारी से मांग की है कि इस माह अध्यापकों को सातवें वेतनमान दिए जाने के उपरांत ही प्राचार्यों का वेतन आहरित किया जाए।

दक्षिण कोरिया से लौटे प्राचार्यः

दक्षिण कोरिया का एजुकेशन सिस्टम समझने गए प्राचार्यों का दल वापस लौट आया है। आधारताल जनशिक्षा केंद्र के शिक्षक राबर्ट मार्टिन ने आधारताल संकुल और जनशिक्षा केंद्र प्रभारी डॉ. संजय परिहार के कोरिया यात्रा से लौटने पर स्टेशन में फूल-मालाओं से स्वागत किया। इस मौके पर मीनूकांत शर्मा, मनोज गुप्ता, दिनेश गौंड़ आदि मौजूद थे।

Posted By: Nai Dunia News Network