जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

मध्यप्रदेश सरकार स्कूली विद्यार्थियों की जिज्ञासा और समस्याएं जानने के लिए सरकार अपने विधायकों को स्कूल-स्कूल भेजेगी। सरकारी स्कूलों में जाकर विधायक बालमन की बात सुनेंगे। पहली बार प्रदेश के सरकारी स्कूलों में ऐसा होना जा रहा है जहां पर विद्यार्थी जनप्रतिनिधियों को अपने स्कूल और शिक्षकों के बारे में पूरी जानकारी देंगे। इसके बाद बच्चों की बात मंत्रालय तक पहुंचेगी। विद्यार्थी जनप्रतिनिधियों को बताएंगे कि उनके विद्यालय में किस तरह की शैक्षणिक व्यवस्था है और शिक्षक किस तरह से पढ़ाई कराते हैं।

जरूरी है बच्चों की बात सुननाः

मिडिल और प्राइमरी स्कूलों में चलने वाली शैक्षणिक गतिविधियों की रिपोर्ट डीईओ द्वारा तैयार की जाती है। इस रिपोर्ट के लिए शिक्षकों की टीम बनती हैं। वे शिक्षकों से ही पूछकर इसे तैयार कर मंत्रालय भेजते हैं। ऐसे में बच्चों का पक्ष मंत्रालय तक नहीं पहुंच पाता है। स्कूल में उनकी पढ़ाई और टीचर के बर्ताव का पता करने इस बार नए सिरे से आयोजन किया जा रहा है।

इस तरह से होगा कार्यक्रम का आयोजनः

- प्रतिभा पर्व की तर्ज पर तीन दिवसीय कार्यक्रम स्कूलों में होगा।

- 12 से 14 जनवरी तक विधायक रोजाना जाएंगे स्कूलों में

- शिक्षा मंत्री खुद करेंगे इसकी मॉनिटरिंग

- विद्यार्थियों के अभिभावकों को भी बुलाया जाएगा कार्यक्रम में

इस कार्यक्रम से ये होगा फायदाः

- सरकारी स्कूलों की वास्तविक स्थिति की जानकारी सरकार को लगेगी।

- अभी तक अधिकारियों की जानकारी भेजने पर स्कूलों की रिपोर्ट तैयार होती थी।

- बच्चे घबराएं न इसलिए अभिभावकों के सामने अपनी बात विधायकों के सामने रखेंगे।

- विधायक शिक्षकों से भी पूछेंगे विद्यार्थियों के बारे में अभिभावकों से भी करेंगे चर्चा

..........

मैं लगातार स्कूलों में जाकर बच्चों से संवाद करता हूं परंतु 12 से 14 जनवरी तक विशेष रूप से स्कूलों में जाकर बच्चों से बात करना है।

-विनय सक्सेना, विधायक

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket