जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

जबलपुर से रायपुर के बीच नई ट्रेन चलने की संभावना बन गई है। जबलपुर से खजुराहो स्पेशल ट्रेन को यात्री न मिलने के बाद इसे बंद कर दिया गया, लेकिन जबलपुर स्टेशन पर इस ट्रेन की समयावधि को ध्यान रखते हुए जबलपुर से रायपुर के बीच एक नई ट्रेन की जरूरत को देखते हुए प्रयास शुरू हो गए हैं।

दरअसल, जबलपुर रेलवे स्टेशन से 24 घंटों में 100 से ज्यादा यात्री ट्रेनें गुजरती हैं, लेकिन जबलपुर से रायपुर के लिए इस दौरान सिर्फ एक ट्रेन अमरकंटक एक्सप्रेस 12854 चलती है, जिसमें सीजन में ही नहीं बल्कि आम दिनों में भी लंबी वेटिंग रहती है। इस रूट पर ट्रेन चलाने की मांग पिछले 8 सालों से हो रही है, लेकिन अब तक इस रूट पर दूसरी ट्रेन नहीं चलाई गई।

पमरे जोन से बोर्ड तक जाएगा प्रस्ताव

जबलपुर रेल मंडल, जबलपुर से रायपुर के बीच नई ट्रेन चलाने का प्रस्ताव तैयार कर रहा है। इसके लिए उन सभी पहलुओं को ध्यान रखा गया है, जिसके आधार पर पश्चिम मध्य रेलवे का ऑपरेटिंग विभाग और रेलवे बोर्ड ट्रेन चलाने पर हामी भर सकता है। हालांकि इसके लिए बिलासपुर रेल जोन की भी स्वीकृति लेना होगा। ट्रेन, श्रेणी, यात्री, रूट और किराया, सभी पहलुओं पर अध्ययन कर लिया गया है। अब मंडल स्तर पर इस नई ट्रेन का प्रस्ताव पमरे जोन भेजा जा रहा है, जहां से रेलवे बोर्ड को प्रेषित कर दिया जाएगा।

हर श्रेणी में 100 फीसदी यात्री

यात्रीः जबलपुर-रायपुर के बीच हर दिन 300 से 400 यात्री सफर करते हैं। ट्रेन एक होने की वजह से अधिकांश बस या फिर सड़क के रास्ते रायपुर जाते हैं।

श्रेणीः अमरकंटक एक्सप्रेस के स्लीपर कोच की 100 सीट पर 139 यात्री रिजर्वेशन लेते हैं। वहीं थर्ड एसी, सेकंड एसी और फर्स्ट एसी में 100 यात्री की तुलना में 150 यात्री रिजर्वेशन लेते हैं।

किरायाः बस और स्वयं के वाहन की तुलना में जबलपुर-रायपुर का किराया ट्रेन में कम है और सफर का समय भी 10 घंटे है।

रूट- जबलपुर से शुरू होने वाली एक भी ट्रेन नहीं है। अमरकंटक एक्सप्रेस को भोपाल से और नर्मदा एक्सप्रेस को इंदौर से चलाया जा रहा है, लेकिन नर्मदा एक्सप्रेस सिर्फ बिलासपुर तक ही जाती है।

सप्ताह में तीन दिन चलाने का प्रस्ताव

जबलपुर से रायपुर के बीच नियमित ट्रेन नहीं बल्कि सप्ताह में तीन दिन ट्रेन चलाने का प्रस्ताव है, जो रविवार, बुधवार और शुक्रवार को चलेगी। सफर का समय 10 घंटे है, इसलिए इसे ओवरनाइट चलाया जा सकता है। हालांकि इसे स्पेशल चलाया जाएगा तो साधारण ट्रेन से 15 फीसदी ज्यादा किराया लिया जाएगा, लेकिन यात्रियों का कहना है कि वे इसके लिए भी तैयार हैं। इस रूट पर ट्रेन चलनी ही चाहिए।

.............

जबलपुर से रायपुर के बीच ट्रेन चलाने की संभावना को देखते हुए हम प्रस्ताव बना रहे हैं। यात्रियों की मांग के आधार पर यह प्रस्ताव जोन को भेजा जाएगा। हालांकि इस पर अंतिम निर्णय रेलवे बोर्ड को लेना है।

- बसंत शर्मा, सीनियर डीसीएम, जबलपुर रेल मंडल

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket