जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। छाती के रास्ते दूरबीन डालकर चिकित्सकों ने मरीज के लिए जानलेवा बने आहारनली के कैंसर की गांठें निकाल दीं। करीब छह घंटे चले ऑपरेशन के दौरान मरीज को कृत्रिम आहार नली भी लगाई गई। यह जटिल ऑपरेशन बड़ेरिया मेट्रो प्राइम मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में किया गया। जिसके बाद मरीज पूर्णत: स्वस्थ है। इस शल्य चिकित्सा के बाद मेट्रो हॉस्पिटल देश के उन चुनिंदा अस्पतालों में शुमार हो गया जहां इस तरह के जटिल ऑपरेशन संभव हैं।

लंबे समय से थी आहारनली में समस्या : ऑपरेशन में सबसे खास बात यह रही कि मरीज को सिंगल लंग्स वेंटीलेटर पर रखा गया था। अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. केके वर्मा ने बताया कि सतना निवासी विनय कुमार गुप्ता 52 वर्ष को लंबे समय से आहारनली में समस्या थी। हालात यह बने कि कुछ भी खाने-पीने में उन्हें तकलीफ होने लगी। विगत दिवस स्वजन ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया। मरीज की समस्या सामने आने पर आहारनली में दूरबीन डालकर जांच की गई। सीटी स्कैन व अन्य जांचों से आहारनली के कैंसर का पता चला। मरीज की आहारनली में कैंसर की कई गांठें हो गई थीं। उन्होंने बताया कि मरीज को निश्चेतना देने के बाद छाती में रास्ता बनाया गया। जहां से दूरबीन डालकर आहारनली की कैंसरग्रस्त गांठों को निकालकर कृत्रिम आहारनली लगाई गई।

एक छाती में वेंटीलेटर, दूसरी में वेंटीलेटर : डॉ. वर्मा ने बताया कि ऑपरेशन के दौरान बेहोशी देने के लिए सिंगल लंग्स वेंटीलेटर पद्धति अपनाई गई। एक छाती (लंग्स) में दूरबीन डालकर ऑपरेशन किया गया तथा दूसरे में वेंटीलेटर लगाया गया। ऑपरेशन उपरांत मरीज पूर्णत: स्वस्थ है तथा कुछ भी खाने-पीने में उसे तकलीफ नहीं हो रही है। शल्य क्रिया में निश्चेतना डॉ. विपिन रघुवंशी द्वारा दी गई।

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags