जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नानाजी देशमुख पशु चिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय के अंतर्गत आत्मनिर्भर मप्र रोडमेप में युवाओं का पशुपालन के क्षेत्र में आनलाइन तृतीय युवा उद्यमी संवाद का आयोजन किया गया। जहां युवा उद्यमी पशुपालकों के स्वर्णिम भविष्य की ओर पशुपालन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर व स्वरोजगारोन्मुखी बनाने की बात की गई।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जीआइएएस अपर मुख्य सचिव मप्र शासन जेएन कंसोटिया रहे। अध्यक्षता कुलपति प्रो. सीता प्रसाद तिवारी ने की। विशिष्ट अतिथि संचालक पशुपालन व डेयरी विभाग डा. आरके मेहिया व अध्यक्ष पशुचिकित्सा परिषद नईदिल्ली डा. उमेश चंद्र शर्मा रहे। मुख्य अतिथि जेएन कंसोटिया ने कहा कि हमारे देश में कृषकों व पशुपालकाें की आय में वृद्धि करने पर कार्य हो रहा है। जिस हेतु निरंतर प्रयास किया जा रहा है। विशिष्ट अतिथि द्वय ने कहा कि युवा उद्यमी पशु पालन व डेयरी विभाग द्वाराआयोजित होने वाले पशुपालन से संबंधित प्रशिक्षणों में सहभागिता करते हुए लाभान्वित हो सकते हैं। अध्यक्षता करते हुए कुलपति डा. एसपी तिवारी ने कहा कि हमारे प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने में एकीकृत उन्नत कृषि पशुपालन प्रणाली के माध्यम से पशुपालकों के सशक्तिकरण की महत्वपूर्ण भूमिका है।

कार्यक्रम में डा.अकलंक जैन, डा. सुनील नायक, डा. अनिल कुमार गौर, डा. गिरिराज गोयल, डा. देवेंद्र गुप्ता, डा. मनोज अहिरवार, डा. नितिन बजाज, डा. केपी सिंह, डा. सोना दुबे व अन्य विशेषज्ञों ने कई जानकारियां दीं। कार्यक्रम में पशुपालकों की समस्या का त्वरित प्रश्नोत्तरी के मध्यम से समाधान किया गया। साथ ही यह निर्णय लिया गया क प्रदेश में जिलेवार पशुपालकों के मोबाइल पर पशुपालक व्हाट्सअप समूह का गठन किया जाए। जिससे पशुपालकों को जानकारियां मिल सकें। इस आनलाइन मीटिंग में 286 सदस्य शामिल हुए।

तृतीय युवा संवाद में अधिष्ठाता डा. आर के शर्मा, कुलसचिव डा. श्रीकांत जोशी, अधिष्ठाता छात्र कल्याण डा. आदित्य मिश्रा व अन्य सदस्यों का सहयोग रहा।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local