जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना संक्रमण का खात्मा करने शहर पहुंची वैक्सीन की आमद के बीच लोग कोरोना महामारी को भूल ही गए। गुरुवार को मकर संक्रांति पर्व पर लापरवाही की भूल हर सड़क और चौराहे में देखने मिली। दरअसल कोरोना की रोकथाम को लेकर पुलिस, जिला प्रशासन के समक्ष बिना मास्क के सवारी न बैठाने की शपथ और संकल्प लेने वाले ऑटो संक्रांति पर ओवरलोड चले। न तो ऑटो चालकों ने मास्क लगाया न ऑटो में बैठने वालों को टोका-टाकी की। कोरोना की रोकथाम को लेकर जारी गाइडलाइन की जमकर अनदेखी की गई। यह नजारा सुबह से शाम तक शहर की सड़कों पर देखने मिला।

ग्वारीघाट, तिलवारा जाने की रही होड़: संक्रांति पर नर्मदा में स्नान व पूजन अर्चन करने वालों की भीड़ सुबह से सड़कों पर देखी गई। ग्वारीघाट, तिलवाराघाट, भेड़ाघाट जाने की होड़ मची रही। ऑटो वालों ने भी इसका फायदा उठाया और क्षमता से अधिक सवारी बैठाने से परहेज नहीं किया। कोरोनाकाल में तीन यात्रियों की बैठाने की गाइडलाइन दरकिनार कर 10 से 12 सवारी बैठाई गई। उसमें भी अधिकांश ऑटो चालक और उसमें बैठी सवारी के चेहरे से मास्क गायब थे।

नर्मदा तटों में भी रहा ऐसा नजारा : नर्मदा तटों में भी संक्रांति पर्व पर भीड़ रही। कोरोना को लेकर सचेत जागरूक नागरिक तो मास्क लगाकर अपना और अपने परिवार का बचाव करते दिखे। लेकिन अधिकांश बिना मास्क के घूमते-फिरते दिखे। किसी के चेहरे से मास्क गायब थे तो किसी के चेहरे से उतर कर गले में लटके रहे। होटल, दुकान चाय-पान के ठेले से भी कोरोना का डर गायब रहा।

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस