जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोतवाली थाना के दीक्षितपुरा में रविवार रात करीब 9 बजे रंजिश के चलते दो पक्षों में जमकर मारपीट होने से आधा दर्जन से ज्यादा लोग घायल हुए। एक पक्ष की महिलाओं ने परिजन की जान बचाने के लिए छत से ईंट-पत्थर व गमले फेंके। जिसकी चपेट में आए दूसरे पक्ष के 4 लोगों के सिर फूटे और उन्हें गंभीर चोटें आईं। पहले पक्ष से भी एक अधेड़ को सिर पर लोहे की रॉड लगने से गंभीर चोटें आई हैं। पुलिस ने मामले को जांच में लिया है।

घटना के संबंध में दीक्षितपुरा निवासी विकास श्रीवास ने बताया कि शनिवार को उनकी भतीजी का जन्मदिन समारोह एक होटल में मनाया गया था। जहां पड़ोस में रहने वाले वाजपेयी परिवार के सदस्य भी आमंत्रित थे। वहां वाजपेयी परिवार के एक सदस्य ने शराब पीकर उत्पात मचाया और उल्टियां कीं जिसके बाद उसे पार्टी से भगा दिया गया। उस घटना से नाराज वाजपेयी परिवार के अन्य सदस्य भी पार्टी छोड़कर चले गए थे।

रविवार रात उसके चचेरे भाई मनीष श्रीवास (45) घर पर थे। तभी किसी काम के बहाने पड़ोस में रहने वाले गोपाल वाजपेयी, अरुण, शुभम व दुर्गेश वाजपेयी उसके घर पहुंचे। चचेरे भाई मनीष से इधर-उधर की बात करने लगे तब तक उनकी तरफ से 15-20 लोग जमा हुए और भाई पर लाठी, रॉड आदि लेकर हमला कर दिया।

कुछ हमलावर जिंदा बम व पिस्टल लिए हुए थे। जान बचाने के लिए मनीष घर के भीतर भागे लेकिन हमलावर घर में जा घुसे। मनीष की जान बचाने के लिए घर की महिलाओं ने छत से ईंट, पत्थर व गमले फेंके जिसकी चोट से दूसरे पक्ष में भगदड़ मच गई और सभी जान से मारने की धमकी देते हुए भाग खड़े हुए।इधर वाजपेयी पक्ष के लोगों ने बताया कि श्रीवास परिवार ने योजनाबद्ध तरीके से हमला किया है। विकास, आकाश, चांदनी, इमरती, मुन्नी व सुर्री ने एकराय होकर घर के बाहर खड़े गोपाल वाजपेयी, शुभम, अरुण व दुर्गेश पर हमला कर दिया।

आसपास के लोगों ने चारों की जान बचाई और अस्पताल पहुंचाया। उन्होंने बताया कि श्रीवास परिवार के घर चल रही कुछ संदिग्ध गतिविधियों को लेकर शिकायत की जा रही थी। जिससे परिवार के सदस्य उनसे रंजिश रखने लगे। इसी बीच रविवार को मौका पाकर घर की महिलाओं से हमला करा दिया गया। चारों घायलों को गोलबाजार स्थित एक निजी अस्पताल तथा मनीष श्रीवास को हेड इंज्यूरी होने के कारण मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है।

दीक्षितपुरा में दो पक्ष में मारपीट की सूचना मिली थी। दोनों पक्ष से घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायलों के बयान दर्ज होने के बाद घटना के कारणों का पता चल पाएगा। -मनीष, एसआई कोतवाली

भादौ मास की पहली सवारी में पांच रूपों में भक्तों को दर्शन देंगे भगवान महाकाल

उज्‍जैन में बस रैलिंग तोड़ त्रिवेणी पुल पर लटकी, 60 यात्री बाल-बाल बचे