जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जिला अधिवक्ता संघ जबलपुर के चुनाव पर संशय की छाया मंडरा रही है। राज्य अधिवक्ता परिषद द्वारा सितम्बर माह की 30 तारीख तक चुनाव संपन्न कराने एक पत्र जारी हुआ था। जिसके परिप्रेक्ष्य में अधिवक्ता संघ जबलपुर ने 17 सितम्बर को राजेश उपाध्याय को चुनाव अधिकारी नियुक्त कर दिया था। 25 अक्टूबर मतदान की तिथि की घोषणा कर दी थी। अधिवक्ता संघ जबलपुर ने मतदाता सूची तैयार करने के लिए पांच सदस्यीय स्कूटनी कमेटी गठित की थी। पूर्व अध्यक्ष अशोक गुप्ता, सुभाष गुप्ता, जीएस ठाकुर, संजय सोनी, अरविंद चौधरी सदस्यों ने स्क्रूटनी कर मतदाता सूची संघ के अध्यक्ष को सौपी, जिसे संघ ने प्रारंभिक मतदाता सूची का प्रकाशन कर दीवार पर सूची एक अक्टूबर को चस्पा कर दी है। जिसमें कुल 2455 अधिवक्ता मतदाता है। पांच अक्टूबर तक दावे आपत्ति आमंत्रित किए गए हैं। जो भी नए नाम जोड़े जाएंगे उसकी पूरक सूची बनेगी। सम्भवतः सात अक्टूबर को अंतिम मतदाता सूची का प्रकाशन कर चुनाव अधिकारी राजेश उपाध्याय को चार्ज दे दिया जाएगा। चुनाव अधिकारी चुनाव की तारीख व सम्पूर्ण कार्यक्रम की घोषणा कर सकते हैं।

संशय की स्थिति : 25 अक्टूबर को चुनाव होने में संशय की स्थिति है। क्योंकि वर्तमान पदाधिकारियों का अभी कुर्सी से मोह छूट नहीं रहा है। वे चाहते हैं कि चुनाव 2022 जनवरी में हो। कुछ नवम्बर में चुनाव कराने की बात कर रहे हैं। चुनाव अधिकारी पर दशहरा, दीपावली त्योहार के बाद चुनाव कराने दबाव बना रहे हैं। नियम अनुसार चुनाव की तारीख चुनाव अधिकारी ही घोषित कर सकते हैं न कि संघ। अधिवक्ता वर्ग में दुविधा की स्थिति है। दो माह से सारा कामकाज छोड़ प्रत्याशियों ने चुनाव प्रचार किया। 25 अक्टूबर के चुनाव की वोट अपील के कार्ड छप गए हैं। एक ओर हाईकोर्ट के चुनाव टलने से भी अफवाहों का माहौल है कि कहीं जिला बार के भी चुनाव न आगे बढ़ जाएं। राज्य अधिवक्ता परिषद भी इस पर अभी तक कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं कर रही है ना ही शीघ्र चुनाव कराने कोई निर्देश दिए गए हैं। सागर, इंदौर, ग्वालियर, सिवनी अनेक जिलों में चुनाव सम्पन्न हो गए हैं। भोपाल में सोमवार, चार अक्टूबर को मतदान है। जबलपुर अधिवक्ता संघ के चुनाव कब होंगे कहना मुश्किल है।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local