जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी में शामिल निजी अस्पताल के पांच कर्मचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की गई है। पांचों के खिलाफ पुलिस अधीक्षक के प्रतिवेदन पर कलेक्टर कोर्ट ने एनएसए के तहत वारंट जारी किया है। पुलिस ने एनएसए के तहत पांचों की गिरफ्तारी की है तथा कम से कम छह माह तक सभी को जेल में रहना पड़ेगा। रेमडेसिविर की कालाबाजारी में ओमती पुलिस ने इनफिनिटी हार्ट इंस्टीट्यूट में कार्यरत झोलाछाप डॉक्टर, दो लैब टेक्नीशियन, बाम्बे अस्पताल के मेल नर्स व एक अन्य अस्पताल की महिला नर्स के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज किया था। ओमती थाना प्रभारी एसपीएस बघेल ने बताया कि पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा के निर्देश पर रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी में लिप्त बदमाशों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की जा रही है। इसी दौरान इनफिनिटी हार्ट इंस्टीट्यूट के झोलाछाप नरेंद्र ठाकुर 27 वर्ष निवासी निवासी ग्राम किन्दराहो पथरिया जिला दमोह हाल मुकाम आमनपुर मदनमहल, सिटी अस्पताल के मेल नर्स राम अवतार पटेल 23 वर्ष निवासी ग्राम खिरवा खुर्द विजयराघवगढ़ थाना कैमोर कटनी हालमुकाम आगा चौक लार्डगंज, इनफिनिटी हार्ट इंस्टीट्यूट के कैथ लैब टेक्नीशियन संदीप कुमार प्रजापति 22 वर्ष निवासी बघराजी कुुंडम हालमुकाम कोठारी मेडिकल के पास कोतवाली को इंजेक्शन की कालाबाजारी में पकड़ा गया था।

सभी के खिलाफ धारा 188, 420 एवं 3 महामारी अधिनियम तथा 3,7 आवश्यक वस्तु अधिनियम की एफआइआर दर्ज की गई थी। अपराध की विेवेचना व तीनों आरोपितों को पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ की गई जिसके बाद फर्जी डिग्री पर चिकित्सा व्यवसाय कर रहे नरेंद्र ठाकुर के गिरोह के अन्य सदस्यों का पता चला। इस गिरोह में बाम्बे हॉस्पिटल की नर्स शाहजहाॅ बेगम 22 वर्ष निवासी घुलघुली जिला उमरिया, दूसरे निजी अस्पताल में मेल नर्स दीपक बिसेन निवासी बालाघाट का पता चला। ये कर्मचारी अस्पताल में भर्ती कोरोना मरीजों के इंजेक्शन चोरी कर नरेंद्र को बेच देते थे। नरेंद्र सभी इंजेक्शन श्याम सिंह लोधी निवासी कालीमठ आमनपुर मदनमहल को ज्यादा कीमत पर बेच देता था। इनफिनिटी अस्पताल के कैथलैब टैक्निशियन कृष्णपाल सिंह भदौरिया से भी उसने इंजेक्शन खरीदे थे।

इधर, नरेंद्र की बीएएमएस डिग्री फर्जी पाए जाने पर पुलिस ने उसके खिलाफ दर्ज प्रकरण में धारा 467,468,471 का इजाफा करते हुए शाहजहाॅ बेगम, कृष्णपाल सिंह भदैारिया को जेल भेज दिया है। दीपक बिसेन, श्याम सिंह लोधी की तलाश की जा रही है।

प्रकरण में लिप्त आरोपितों के खिलाफ एनएसए कार्रवाई का प्रतिवेदन पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर कलेक्टर को भेजा गया था। जिसके बाद नरेंद्र, राम अवतार, संदीप कुमार, शाहजहाॅ बेगम, कृष्णपाल के विरुद्ध कलेक्टर कोर्ट ने छह माह का एनएसए वारंट जारी किया।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local