जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। गोपालबाग तालाब बदइंतजामी के कारण कचराघर में तब्दील हो गया है। क्षेत्रीयजनों के प्रयास से इस तालाब का कचरा साफ कर सुंदर बनाया गया लेकिन निगम की अनदेखी के कारण इस तालाब में दोबारा कचरा जमा हो गया। इसकी नियमित साफ-सफाई नहीं होने के कारण घास और गंदगी का अंबार लगा चुका है।

लोगों ने किया था श्रमदान : पूर्व पार्षद पंडित सुशील शुक्ला ने बताया की गोपालबाग तालाब को लेकर लंबी स्वच्छता की मुहिम चलाई गई थी। कई लोगों ने एक साथ श्रमदान कर तालाब से गंदगी हटाई थी। उस दौरान नगर निगम ने भी इसमें सहयोग दिया था। लेकिन कुछ साल बाद ही निगम ने स्वच्छता पर ध्यान देना बंद कर दिया जिसका नतीजा निकला कि तालाब में लोग फिर से गंदगी फेंकने लगे।

मिलता है गंदा पानी : तालाब के चारों तरफ आवासीय परिसर बने हुए हैं। इन परिसरों का गंदा पानी तालाब में पहुंचता है। कुछ मकान तो तालाब की जमीन पर बन गए हैं। इन्हें बोलने वाला कोई नहीं है। नियम के अनुसार इस ताल में गंदगी और उसे नष्ट नहीं किया जा सकता है लेकिन लोग अपने फायदे के लिए तालाब की जमीन को कचरे के जरिए पूरकर उसे रहवासी उपयोग के लिए इस्तेमाल करने का प्रयास कर रहे हैं।

पानी का स्तर बढ़ता है : तालाब में पानी सालभर बना रहता है। गर्मियों के दिनों में भी जब नलों में पानी नहीं आता है तो लोगों के दैनिक उपयोग में इस तालाब का पानी इस्तेमाल करते हैं। सुशील शुक्ला ने बताया कि तालाब के कारण आसपास बोर का पानी कम नहीं होता है। जलस्तर भी सामान्य बना हुआ है। उन्होंने कहा कि नियमित निगम की तरफ से सफाई होगी तो तालाब का संरक्षण हो पाएगा।

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags