जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने एक याचिका का इस टिप्पणी के साथ पटाक्षेप कर दिया कि केंद्रीय विद्यालय संगठन ने छात्रा को प्रवेश न देकर कोई गलती नहीं की है। यदि छात्रा स्कूल से पांच किलोमीटर के दायरे में निवास करने का प्रमाण प्रस्तुत करने में सफल होती है, तो वह प्रवेश दिए जाने के संबंध में अपना दावा प्रस्तुत करने स्वतंत्र है। न्यायमूर्ति अतुल श्रीधरन की एकलपीठ के समक्ष मामले की सुनवाई हुई। इस दौरान केंद्रीय विद्यालय संगठन की ओर से अधिवक्ता पंकज दुबे ने याचिका का विरोध किया।

उन्होंने दलील दी कि बैतूल निवासी छात्रा पहली कक्षा में दाखिला चाहती है। यदि वह पांच किलोमीटर के दायरे में निवास करने की शर्त पूरी करती, तो उसका दाखिला हो जाता। लेकिन ऐसा नहीं है। वस्तुस्थिति यह है कि छात्रा मुल्ताई में निवास करती है। लिहाजा, मुल्ताई निवासी को बैतूल स्थित केंद्रीय विद्यालय में दाखिला न देकर कोई गलती नहीं की गई है। सांसद ने भी दाखिले की अनुशंसा की थी, लेकिन केंद्रीय विद्यालय ने नियम का हवाला दे दिया। छात्रा ने अपने आवेदन में कहा था कि वह अपने चाचा के घर में रहती है, जो कि बैतूल में है। उसे पहली कक्षा में प्रवेश चाहिए।

ऑल इंडिया बार परीक्षा की तिथि बढ़ी : नए अधिवक्ता बनने के बाद नियमित व्यवसाय करने के लिए बार कौंसिल ऑफ इंडिया, नई दिल्ली द्वारा संपूर्ण भारत में एक साथ ली जाने वाली 16 वीं ऑल इंडिया बार परीक्षा की तिथि बढ़ गई है। अब यह परीक्षा 25 अप्रैल को होगी। स्टेट बार सचिव प्रशांत दुबे ने बताया कि 22 मार्च तक ऑनलाइन फॉर्म जमा किए जा सकते हैं। इससे पूर्व यह परीक्षा 22 मार्च केा निर्धारित थी, जबकि ऑनलाइन फॉर्म भरने की अंतिम तिथि 21 फरवरी थी। कोविड काल में मद्देनजर तिथि में इजाफा करने की मांग उठी थी, जिसे मान लिया गया। इससे नए अधिवक्ता राहत महसूस कर रहे हैं। पूर्व में भी यह मांग उठी थी।

Posted By: Ravindra Suhane

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags