जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

जबलपुर-राष्ट्रीय राजमार्ग एनएच-30 (पुराना एनएच-7) को दो लेन से फोरलेन बनाने का काम लगातार जारी है। इस सड़क की जबलपुर-लखनादौन परियोजना के तहत तिलवारा में नर्मदा नदी पर एक किलोमीटर लंबा नया पुल बनाया गया। वर्तमान में यह नया पुल एप्रोच सड़क से धंसक रहा है। इससे नई फोरलेन सड़क पर कभी भी भारी वाहनों की आवाजाही बंद हो सकती है।

जबकि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के हवाले होने से पहले ही फोरलेन सड़क में दरारें आने की शिकायतें मिल रहीं हैं। अब तिलवारा पुल की मिट्टी धंसकने से ठेका कंपनी के निर्माण कार्य की गुणवत्ता उजागर हो रही है।

प्रदेश के 5 जिलों रीवा (मनगवां) से मैहर (सतना), कटनी, जबलपुर और सिवनी (लखनादौन) को जोड़ने वाली एनएच-30 सड़क को दो लेन से फोरलेन बनाया जा रहा है। केंद्र के निर्देश पर करीब 350 किलोमीटर की फोरलेन सड़क 4 परियोजनाओं के तहत करीब 27 सौ करोड़ की लागत से बन रही है। केंद्र ने एनएचएआई के माध्यम से सभी चारों परियोजनाओं के काम की जवाबदारी एलएण्डटी प्रालि. को दी है। वर्तमान में यह कंपनी एनएच-30 को बनाने में जुटी है। इस फोरलेन सड़क का तिलवारा पुल क्षतिग्रस्त होने बारे में एनएचएआई को जानकारी नहीं है। इसलिए नर्मदा के नए पुल से भारी वाहनों की आवाजाही जारी है।

दूसरी परियोजना लगभग पूरी :

एनएच-30 की रीवा-मैहर परियोजना, मैहर-स्लीमनाबाद, स्लीमनाबाद-जबलपुर, जबलपुर-लखनादौन परियोजनाओं पर जून 2015 से काम चल रहा है। ठेका कंपनी ने जबलपुर-स्लीमनाबाद परियोजना का काम सबसे पहले पूरा किया। इसके बाद कंपनी ने जबलपुर-सिवनी परियोजना लगभग पूरी कर ली है।

फ्लाईओवर व पुल बनाया :

कंपनी ने जबलपुर-लखनादौन परियोजना के तहत भेड़ाघाट बाईपास पर फ्लाईओवर और तिलवारा में नर्मदा नदी पर नया पुल बनाया है।

वर्जन...

तिलवारा में नए पुल की एप्रोच सड़क के नीचे मिट्टी धंसने की शिकायत नहीं मिली है। यदि ऐसा कुछ है, तो उसका निरीक्षण करके तत्काल सुधारकार्य कराया जाएगा।

- पारस बंसल, डिप्टी मैनेजर, एनएचएआई जबलपुर

Posted By: Nai Dunia News Network