जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

आरटीई यानी शिक्षा का अधिकार कानून के तहत फर्जी गरीबी रेखा कार्ड बनाकर अपने बच्चे को निजी स्कूल में पढ़ाने का मामला सामने आया है। एसडीएम गोरखपुर आशीष पांडे को रॉयल सीनियर सेकंडरी स्कूल की संचालिका ने ही सबूतों के साथ शिकायत सौंपी है। सबूत भी फेसबुक से जुटाए गए और लिखित शिकायत में बताया कि पिता कार से अपने बच्चे को स्कूल छोड़ने आता है। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए एसडीएम ने विस्तृत जांच के निर्देश दिए हैं।

पूर्व में हुई जांच पर उठे सवालः

- बीपीएल राशन कार्ड धारियों का सर्वे वर्तमान में चल रहा है। यदि कार्ड बनाते समय सही जांच की जाती तो इस तरह के लोग शिक्षा अधिकार कानून या अन्य योजनाओं का लाभ नहीं उठाते। नियम कहता है कि परिवार की माली हालत के बारे में आरआई-पटवारी का दल घर तक जांच करने जाएगा। यदि बिना जांच के बीपीएल राशन कार्ड बना है तो यह एसडीएम, खाद्य विभाग की गलती भी मानी जाएगी।

पार्टी से भी जुड़ा है पिता :

- स्कूल संचालिका ने एसडीएम को सौंपी शिकायत में यह भी बताया कि पिता राजनीतिक दल से भी जुड़ा हुआ है। उसकी फेसबुक प्रोफाइल में नेताओं के साथ तस्वीर भी है, लेकिन शिकायत के साथ परिवार की आर्थिक स्थिति बेहतर दिखने वाली जानकारी भी दी गई है। अब आरआई-पटवारी द्वारा लेकर खाद्य विभाग से भी पिता के गरीबी रेखा राशन कार्ड, समग्र आईडी और अन्य जानकारियों की जांच की जाएगी। यदि जांच में इस बात की पुष्टी हुई कि गलत ढंग से योजना का लाभ लिया गया है। तब पिता के खिलाफ सख्त कार्रवाई भी देखने मिल सकती है।

........

स्कूल संचालिका ने शिकायत सौंपी है। इसमें एक व्यक्ति द्वारा गलत तरीके से योजना का लाभ लेने की जानकारी दी गई है। जांच रिपोर्ट के आधार पर अगली कार्रवाई के आदेश दिए जाएंगे।

-आशीष पांडे, एसडीएम, गोरखपुर

Posted By: Nai Dunia News Network