जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि। Jabalpur Super Specialty Hospital सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में 17 मार्च से 21वीं न्यूरोएंडोस्कोपी फेलोशिप शिविर Neuroendoscopy fellowship camp का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान मस्तिष्क, रीढ़ व नस की बीमारियों से परेशान मरीजों के जटिल ऑपरेशन छोटा सा चीरा लगाकर अत्याधुनिक दूरबीन पद्घति से निशुल्क किए जाएंगे।

शिविर में दुनिया भर के न्यूरोसर्जन शामिल होंगे

मिली जानकारी के अनुसार इस शिविर में दुनिया भर के न्यूरोसर्जन हिस्सा लेंगे। आयोजन समिति के सचिव न्यूरोसर्जन डॉ. विजय परिहार ने बताया कि शिविर में जर्मनी की कार्ल स्टोर्ज की अत्याधुनिक दूरबीन जैसे लोटा, डेस्टांग, विटोम तथा ईजी गो पद्घति से ऑपरेशन किए जाएंगे।

इन बीमारियों का हो सकेगा उपचार

जिससे मस्तिष्क में पानी भरना, पिटूयटेरी ग्रंथि के ट्यूमर, नाक से पानी का रिसाव, चेहरे का दर्द, मस्तिष्क में पानी की थैली, ब्रेसिर तथा गर्दन की हड्डी के जोड़ की बीमारी, गर्दन की नस में दबाव, स्लिप डिस्क, साइटिका से परेशान मरीजों को लाभ मिलेगा। सभी ऑपरेशन विभागाध्यक्ष डॉ. वायआर यादव व टीम द्वारा किए जाएंगे। अस्पताल में रोजाना सुबह 9 से दोपहर 2 बजे तक पंजीयन कराया जा सकता है।

इटली, बांग्लादेश से आएंगे विशेषज्ञ

डॉ. परिहार ने बताया कि नेताजी सुभाषचंद बोस मेडिकल कॉलेज अस्पताल का न्यूरोसर्जरी विभाग न्यूरोएंडोस्कोपी क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलग पहचान रखता है। यहां दुनियाभर के न्यूरोसर्जन प्रशिक्षण के लिए आते हैं। शिविर में प्रशिक्षण हेतु इटली, बांग्लादेश, दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, नागपुर समेत दुनिया के अन्य बड़े शहरों के न्यूरोसर्जन ने सहमति दी है। शिविर के उद्घाटन अवसर पर सीएसी वेल्लोर हॉस्पिटल के न्यूरोसर्जन प्रो. वी राजशेखर, प्रो. वीके खोसला व्याख्यान देंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network