जबलपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)

मां नर्मदा का तट, गीता का धाम, अर्धनारेश्वर की आकर्षक प्रतिमा और राम मंदिर की प्रतिकृति। यह सब नर्मदा गो कुंभ में भक्तों को आकर्षित कर रहा है। सुबह से मंत्रों की गूंज और भागवत कथा की रस वर्षा, संतों की अमृत वाणी के बीच भक्ति और आस्था का कुंभ भर रहा है। पुण्यसलिला के ग्वारीघाट स्थित गीताधाम के सामने नर्मदा गो कुंभ में भक्ति की धारा हिलोरें मार रही हैं। वहीं नागा साधुओं से आशीर्वाद लेने उनके हठ योग को देखने लोग घंटों खड़े रहते हैं।

.....................

गाय की परिक्रमा से दूर होते हैं कष्टः

मंच पर प्रवचन देते हुए विट्ठल महाराज ने कहा कि गाय की परिक्रमा मात्र से मनुष्य के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। पूर्व में इतने यज्ञ नहीं होते थे फिर भी सभी निरोगी और समृद्धि के साथ जीवन आनंद के साथ जीते थे। आज सभी चिंतित और परेशान हैं क्योंकि सभी ने प्रकृति से खिलवाड़ कर रहे हैं।

अनुष्ठान से कटते हैं पापः

भागवत कथा की मीमांसा करते हुए आचार्य इंद्रेश उपाध्याय ने कहा कि पाप काटने के लिए व्यक्ति धार्मिक अनुष्ठान करता है। आजकल यजमान कथा प्रचार में अपनी फोटो बड़ी लगाता है और कथा व्यास की फोटो छोटी। यानी फल भी चाहिए और प्रचार भी। उन्होंने कहा कि मानव जीवन में विवेक का बड़ा ही महत्व है। विवेकपूर्ण निर्णय लेने से ही सामाजिक आर्थिक और धर्मिक सुधार कर सकते हैं।

सनातन धर्म हमेशा रहेगाः

अयोध्या धाम से आए महामंडलेश्वर स्वामी रामलखन दास ने कहा कि बड़े सौभाग्य से नर्मदा तट और संत समागम मिला है। सनातन धर्म सनातन था है और रहेगा। गाय धर्म का मूल है। इसका नाश नहीं हो सकता क्योंकि इसके रक्षक स्वयं भगवान हैं। जो सनातन नहीं मिटा रावण के अत्याचारों से जो सनातन नहीं मिटा कंश के अत्याचारों से जो सनातन नहीं मिटा हिरण्याक्ष के तलवारों से वो सनातन आज के राक्षस क्या मिटा पाएंगे।

संतों के साथ मिली सरकार, कुंभ का सपना हुआ साकार

संतजनों को सरकार का साथ मिला और नर्मदा गो कुंभ की परिकल्पना को हम सब एक साथ साकार होते देख रहे हैं। आयोजन समिति के संयोजक डॉ. स्वामी नरसिंहदास महाराज ने कहा कि सरकार ने जिस सहयोगात्मक ढंग से कुंभ को संवारा है, वो निश्चय ही देश भर की सरकारों के लिए अनुकरणीय है। ये बात आज नर्मदा गो कुंभ के मंच से बार-बार दोहराई गई। मप्र के मुख्यमंत्री कमलनाथ एवं वित्त मंत्री तरुण भनोत की विशिष्ट संतों ने दिल खोलकर तारीफ की। संतों ने कहा कि सरकार के प्रतिनिधि विभागों के अथक परिश्रम का फल है कि यहां एक ही आयोजन में श्रद्धालु सरकारी योजनाओं से मिलने वाले लाभों का जान रहे हैं तो वहीं संतों की वाणी से अपने जीवन को भी धन्य कर रहे हैं। वहीं नर्मदा गो कुंभ के मुख्य यजमान गौरव भनोत को उनकी निष्ठा और परिश्रम के लिए संतों ने आशीष दिया।

हर बीमारी का निशुल्क इलाज

नर्मदा गो कुंभ के मद्देनजर आयुर्वेद कॉलेज में अस्थायी अस्पताल भी बनाया गया है। जहां विक्टोरिया के चिकित्सकों की टीमें 24 घंटे मौजूद हैं। अस्पताल में तैनात डॉ.केके वर्मा ने बताया कि कुंभ के पहले दिन से ही अस्पताल लोगों को चिकित्सा सुविधा प्रदान कर रहा है। अनुमान है कि रोजाना 50 से 100 मरीज आ रहे हैं। डॉ.वर्मा के अनुसार कई मरीज ऐसे भी आए, जिन्हें गंभीरतम रोग हैं, उन्हें प्रदेश सरकार की निशुल्क चिकित्सा योजनाओं की संपूर्ण जानकारी दी गईं, ताकि वे निरोगी हो सकें।

..................................

भाजपा नेताओं ने लिया आशीर्वाद

सांसद राकेश सिंह के साथ भाजपा नेताओं ने ग्वारीघाट पहुंचकर मां नर्मदा का पूजन-अर्चन किया। साथ ही गीताधाम में डॉ. स्वामी श्यामदेवाचार्य महाराज का आशीर्वाद लिया। इस अवसर पर नगर अध्यक्ष जीएस ठाकुर, विधायक सुशील तिवारी इंदु, पूर्व मंत्री अंचल सोनकर, शरद जैन, हरेंद्रजीत सिंह बब्बू, पूर्व महापौर प्रभात साहू, रजनीश यादव, काके आनंद, कुंवरपाल सिंह शेरू, कौशल सूरी, मनीष दुबे, सोनू बचवानी, शिवम तिवारी आदि उपस्थित रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network