जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

नर्मदा का जो स्वरूप अभी दिख रहा है वह संस्कारधानी के सभी लोग मिलकर स्वच्छ करते तो संभव नहीं था। हमें प्रकृति को समझना होगा और उसका पालन करना होगा। ज्यादातर लोग भक्ति के नाम पर दिखावा करते हैं और नर्मदा जी से आशीर्वाद लेने जाते हैं और कचरा फैलाकर आ जाते हैं। इसके लिए कोई और नहीं मनुष्य ही जिम्मेदार है। इसके लिए सभी को आगे आकर इसके स्वरूप को संवारना होगा। यह कहना है आषाढ़ी कार्तिकी वारी महामंडल के कार्यकर्ताओं का जो नर्मदा को निर्मल, स्वच्छ बनाए रखने 'नईदुनिया प्रयास' में विचार व्यक्त कर रहे थे।

दीपदान के लिए हो निर्धारित स्थान

महामंडल के वरिष्ठ सदस्य और पूर्व महापौर सदानंद गोडबोले ने कहा कि नर्मदा के स्वरूप को निर्मल रखने के लिए कई स्तर पर काम करने की जरूरत है। यहां सबसे ज्यादा दीपदान से कचरा फैलता है। इसके लिए एक चबूतरानुमा स्थान तय होना चाहिए। इसी तरह ग्वारीघाट में दुकानों को मुख्य मार्ग में बंद रेलवे स्टेशन के पास शिफ्ट करना चाहिए। पंडों को भी घाट के ऊपरी हिस्से में व्यवस्थित करना चाहिए। जिससे लोग नर्मदा जी की आराधना सहजता से कर सकें।

वाहनों के जाने पर लगे रोक

श्रीकांत बापट ने कहा कि नर्मदा के कई घाटों पर गाड़ियां सीधे जलधारा के पास जाती हैं। जिससे धुएं से प्रदूषण बढ़ता है। इस पर भी रोक लगना चाहिए। भास्कर वर्तक का कहना है कि दीपदान पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा देना चाहिए। राजेश तोपखाने वाले ने कहा कि घाटों पर प्लास्टिक दोने-पत्तलों पर प्रतिबंध लगाना चाहिए। राजू सराफ ने कहा कि नालों के लिए भी रूपरेखा बनना चाहिए। क्योंकि घाट किनारे निर्माण बढ़ने से प्रदूषण भी बढ़ रहा है। संतोष गोडबोले ने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि नर्मदा की सहायक नदियों में डेम बनाना चाहिए जिससे प्रदूषित पानी सीधे नर्मदा में न मिले। विध्येश भापकर ने कहा कि रेत का उत्खनन बढ़ता जा रहा है। गड्ढे होने से घटनाएं बढ़ती हैं। प्रवीण विप्रदास का कहना है कि सबसे ज्यादा प्रदूषण पूजन सामग्री से हो रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस