जबलपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)।

मदन महल से दमोहनाका फ्लाईओवर का काम बारिश में भी पूरा किया जा सकेगा, क्योंकि इस काम में पिलर खड़े करने और ऊपरी हिस्से के काम आसानी से हो सकते हैं। लेकिन फ्लाईओवर के अलावा पुराने अधूरे प्रोजेक्ट के काम पूरे करने में समस्या होगी। अधिकांश प्रोजेक्ट में भवनों और इसी तरह के अन्य निर्माण कार्य शामिल हैं। पुल-पुलियों का रखरखाव तो किया जा सकेगा, लेकिन नए पुल-पुलियों के निर्माण पर 15 जून से रोक लग जाती है। स्थानीय स्तर के ब्रिज हो या फिर पीडब्ल्यूडी विभाग के अंतर्गत सेतु निगम के ब्रिज को भी बारिश में बनाने की अनुमति नहीं मिलती।

इतने प्रोजेक्ट पर चल रहा कामः

- अभी मदन महल और अन्य स्थलों से विस्थापित परिवारों के लिए तेवर में नए विस्थापन स्थल का निर्माण किया जाना बाकी है। तेवर में ही नई मंडी का निर्माण भी प्रस्तावित है।

- सरस्वती व लम्हेटाघाट पुल के अलावा रामपुर में पिछड़ी जनजाति छात्रावास, विद्यालय छात्रावास, तिलहरी क्रीड़ा परिसर में वेलोड्रम, बरगी में कॉलेज भवन, जिला स्तर पर एक्सीलेंस हॉस्टल, दिव्यांगों का छात्रावास, विक्टोरिया में वन स्टॉप सेंटर, जिला निशक्त पुनर्वास केंद्र जैसे सैकड़ों अन्य निर्माण कार्य पर बारिश के बाद ही सही तरीके से काम शुरू हो सकेगा। इसके अलावा बायपास, सेक्टर सड़कों पर भी काम शुरू होने बाकी हैं। कुछ काम में विभागीय प्रक्रिया नहीं पूरी हो सकी तो कुछ में तकनीकी पेच उलझे हुए हैं।

इसलिए बनता रहेगा फ्लाईओवरः

जमीन पर फ्लाईओवर के पिलर्स को खड़े करने का काम आसानी से किया जा सकता है। पिलर खड़े होने के बाद उनमें कंक्रीट ब्लॉक्स लगाने का काम भी बारिश में हो सकता है। इसके अलावा बड़ी क्रेन की मदद से कुछ समय के लिए सिर्फ यातायात बाधित हो सकता है, लेकिन बारिश के पानी से किसी भी सामग्री को कोई नुकसान नहीं होगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan