जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

देश की सीमा पर पहरा देते सैन्य जवान तनाव बढ़ने या घुसपैठ की कोशिश होते ही अपग्रेड 155एमएम 'सारंग तोप' से गोले भी बरसा सकेंगे। जबलपुर स्थित गन कैरिज फैक्ट्री (जीसीएफ) व व्हीकल फैक्ट्री जबलपुर (वीएफजे) के कर्मचारी 130 एमएम पुरानी 'सारंग तोप' के लिए अपग्रेड (उन्नत) कर 155एमएम बनाने में लगातार जुटे हैं। इन दोनों निर्माणियों ने अपग्रेड 14 तोपों का लांग प्रूफ रेंज (एलपीआर) खमरिया में फायरिंग टेस्ट (परीक्षण) भी कराया है। सैन्य परीक्षण में यह अपग्रेड सारंग तोपें सफल रहीं, जिन्हें जल्द ही भारतीय सेना को सौंपा जाएगा।

रक्षा मंत्रालय ने ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड (ओएफबी) के माध्यम से जीसीएफ और वीएफजे को पुरानी सारंग तोप को उन्नत करने की जवाबदारी सौंपी है। करीब एक वर्ष से दोनों निर्माणियों में सारंग तोपों को अपग्रेड करने का काम लगातार चल रहा है। इस प्रक्रिया में अपग्रेड तोपों का एलपीआर खमरिया में फायरिंग टेस्ट भी कराया गया। फायरिंग टेस्ट में सफल रहीं सभी तोपें अब सेना के हवाले करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। सुरक्षा निर्माणियों में अपग्रेड सारंग तोप के अंतिम दस्तावेज तैयार करने का काम तेजी से चल रहा है। उम्मीद है कि दोनों निर्माणियां इस माह के अंत तक 14 अपग्रेड सारंग तोपों की पहली खेप सैन्य प्रशासन को सौंप सकती हैं। निर्माणियों के श्रमिक नेता बताते हैं कि सैन्य प्रशासन जीसीएफ व वीएफजे से अपग्रेड सारंग तोपें लेकर सेंट्रल ऑर्डनेंस डिपो (सीओडी) में रखवाएगा। इस बारे में निर्माणी और सैन्य प्रशासन की चर्चा भी हो चुकी है।

जीसीएफ ने 15 को अपग्रेड किया :

सुरक्षा निर्माणी जीसीएफ को अब तक 22 पुरानी सारंग तोपें दी गईं। निर्माणी के कर्मचारियों ने इनमें से 15 तोपें खोलकर अपग्रेड की हैं। इनमें से 11 अपग्रेड तोपों को एलपीआर को फायरिंग टेस्ट के लिए भेजा गया जोकि सफल रहीं।

वीएफजे में 5 हुईं अपग्रेड

सुरक्षा निर्माणी वीएफजे को अब तक कुल 7 पुरानी सारंग तोपें मिली। निर्माणी में अब तक 5 तोपों को खोलकर अपग्रेड किया गया। निर्माणी प्रशासन ने इनमें से सिर्फ 3 अपग्रेड सारंग तोपें फायरिंग टेस्ट के लिए एलपीआर खमरिया भेजीं, जो परीक्षण में सफल रहीं।

ऐसे किया अपग्रेडः

दोनों निर्माणियों ने 130एमएम सारंग तोप खोलकर ऊपरी हिस्से में लगा बैरल हटा दिया। इस तोप के विभिन्न हिस्सों की जांच करने के बाद 155 एमएम का बैरल लगाने का काम किया। पुरानी तोप का सिर्फ बैरल बदलने से उसकी मारक क्षमता 27 से बढ़कर 38 किलोमीटर की हो गई।

...........

निर्माणी में 130एमएम सारंग तोप को अपग्रेड करने के साथ ही उनकी टेस्टिंग भी हो रही है। अब तक 11 अपग्रेड तोपें फायरिंग टेस्ट में सफल रहीं जिन्हें जल्द ही सेना के सुपुर्द किया जाएगा।

- संजय श्रीवास्तव, पीआरओ, जीसीएफ जबलपुर

......

वीएफजे में पांच सारंग तोपों को अपग्रेड किया गया, जिसमें से तीन फायरिंग टेस्ट में पास हो चुकीं हैं। यह तोपें सेना के हवाले करने के लिए अंतिम दस्तावेज बनाए जा रहे हैं।

- अजय राय, पीआरओ, वीएफजे जबलपुर

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan