जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि।

जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से कम हो रही है। अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 2 हजार ऑक्सीजन सिलिंडर की खपत रोजाना होती थी जो घटकर 1200 पर आ चुकी है। ऑक्सीजन के लिए अब निजी अस्पताल वाले खुद ही जिला प्रशासन को मना कर देते हैं कि उन्हें जरूरत ही नहीं है। क्योंकि उनके अस्पताल में मरीज भी बहुत कम भर्ती हो रहे हैं।

मेडिकल से घटे 400 सिलिंडर

- मेडिकल सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में ऑक्सीजन टैंक ही स्थापित कर दिया गया है। यहां सितंबर माह समाप्त होने के बाद अक्टूबर माह के पहले हफ्ते तक 400 सिलिंडर रोजाना की खपत थी। 10 हजार किलोलीटर ऑक्सीजन टैंक स्थापित होने पर यह डिमांड पूरी तरह बंद हो गई। इसी तरह निजी अस्पतालों में मेट्रो से लेकर मेडीसिटी और सिटी अस्पताल में पहले जहां बिस्तर नहीं मिलते थे, अब मरीज न के बराबर रह गए हैं।

दूसरे जिलों में भी नहीं जा रहे सिलिंडर

- दमोह, शहडोल, उमरिया जैसे जिलों से अब सिलिंडर की डिमांड नहीं आ रही है। बहुत कम संख्या में सिलिंडर आस पास के जिलों में भेजे जाते हैं। क्योंकि दूसरे जिलों में भी कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से सुधार हुआ और नए मरीजों की संख्या भी कम देखने मिली है।

वर्जन

सितंबर माह में जितनी बड़ी संख्या में सिलिंडर की डिमांड की जा रही थी। उसकी तुलना में वर्तमान में सिलिंडर की कोई कमी नहीं है और डिमांड भी घट गई है।

ऋषभ जैन, एसडीएम अधारताल एवं ऑक्सीजन सप्लाई प्रभारी

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020