जबलपुर, नईदुनिया रिपोर्टर। मेकअप एक ऐसी विधा जो नाटक हो या फिल्म सभी के पात्रों को जीवंत दर्शकों के सामने लाती है। एक ही कलाकार कभी युवा दिखने लगता है तो कभी वही बुजुर्ग के पात्र को भी बखूबी निभाता है। इन पात्रों के मंचन में जितना आवश्यक अभिनय है उतनी ही जरूरी बात है मेकअप या रूपसज्जा। फिल्मों में तो रीटेक के अवसर मिलते हैं लेकिन नाटकों में रीटेक नहीं होता। जो भी मंचित होता है एक ही बार होता है। ऐसे कलाकार के मेकअप पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। नाट्य विधा के अंतर्गत रंगकर्मियों को मेकअप की इन्हीं बारीकियों से अवगत कराने का प्रयास कर रहे हैं समागम रंगमंडल के निर्देशक व वरिष्ठ रंगकर्मी आशीष पाठक।

वीडियों में बता रहे मेकअप : आशीष ने बताया कि उन्होंने मेकअप पेंटिंग अ कैरेक्टर नाम से एक सीरीज शुरू की है। जिसमें समागम रंगमंडल के कलाकार स्वाति दुबे, ज्योत्सना, शिवांजलि और मानसी मिलकर मेकअप का कमाल कैसे किया जाता है यह बता रहे हैं। वीडियो में विजय तेंदुलकर, शेक्सपियर, हेनरी क्रिप्सन के नाटकों के पात्रों को मेकअप के जरिए कैसे दर्शकों के सामने सजीव किया जा सकता है इसे बताया जा रहा है। नाटक चाहे शेक्सपियर को हा या फिर विजय तेंदुलकर का। मेकअप सभी का अहम हिस्सा है। जब दर्शक के सामने किसी नाटक का नाम लेते हैं तो वह उसी के अनुरूप पात्रों की कल्पना करता है। जिसे सिर्फ मेकअप के जरिए ही मंच पर जीवंत कर सकते हैं।

आशीष पाठक बताते हैं कि वर्तमान में अन्य गतिविधियां तो हो नहीं रही हैं इसलिए इंटरनेट मीडिया का उपयोग करके हम युवाओं को रंगमंच की विविध विधाओं से परिचित करा रहे हैं। जिसमें मेकअप अहम है। कई ऐसे युवा हैं जो अभिनय तो करना चाहते हैं लेकिन उनकी रुचि मेकअप में भी है। उनके लिए यह वीडियो बहुत उपयोगी साबित हो रहे हैं।

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags