जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। Jabalpur News : मध्यप्रदेश हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति मोहम्मद फहीम अनवर की एकलपीठ ने दहेज प्रताड़ना के इटली निवासी दो आरोपितों सहित अन्य की अग्रिम जमानत अर्जी मंजूर कर ली। आवेदक दुर्ग छत्तीसगढ़ निवासी शैलेष जायसवाल और तान्या जायसवाल, इटली निवासी सागर जायसवाल व मेधा जायसवाल, पटना बिहार निवासी रूबी जायसवाल व संतोष कुमार जायसवाल की ओर से अधिवक्ता निशांत दत्त ने पक्ष रखा।

उन्होंने दलील दी कि नैन जायसवाल का विवाह हितेश जायसवाल के साथ 12 फरवरी 2018 को हिन्दु रीति रिवाज से हुआ था। विवाह के बाद वरपक्ष ने वधु को किसी तरह की कोई प्रताड़ना नहीं दी। इसके बावजूद आरोप लगाया गया कि नैन के पिता से विवाह में 40 लाख रुपए खर्च किए थे। इसके बावजूद वरपक्ष कार और नकद राशि की अतिरिक्त मांग करने लगे।

ऐसा न करने पर बेटी को जहर देकर मार डालने की धमकी दी। इस प्रताड़ना से तंग आकर नैन जायसवाल ने आवेदकों के खिलाफ छिंदवाड़ा के कोतवाली पुलिस स्टेशन में दहेज प्रताड़ना की धारा-498 ए सहित अन्य के तहत अपराध पंजीबद्घ करा दिया। जबकि हकीकत यह है कि जिन पर आरोप लगाया गया वे दुर्ग, पटना और इटली में निवास करते थे और वर-वधु नागपुर में। कोर्ट ने पूरे मामले पर गौर करने के बाद अग्रिम जमानत अर्जी मंजूर कर ली।

Posted By: Nai Dunia News Network