जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नगर निगम ने मार्च से पहले अपना वसूली अभियान तेज कर दिया है। संपत्ति कर से लेकर नल और अन्य कर का भुगतान के साथ अब अब निगम का वित्त विभाग का अमला लोगों से डोर टू डोर का टैक्स वसूलने में जुटा है। विभाग के अधिकारी और कर्मचारी, लोगों के घर और दुकान जाकर उनसे डोर टू डोर का कलेक्शन कर रहे हैं। इस दौरान कई लोग तो उन्हें आसानी से टैक्स दे रहे हैं, लेकिन जिन मोहल्लों और कालोनियों में डोर टू डोर की गाड़ी कचरा उठाने नहीं आ रही, वे लोग निगम के कर्मचारियों को खरीखोटी सुना रहे हैं।

दरअसल पहले से बिगड़ी शहर की सफाई व्यवस्था के साथ अब डोर टू डोर की व्यवस्था को लेकर भी शिकायतें ज्यादा हो गई हैं। बावजूद इसके निगम ने अभी तक यह काम देख रही एस्सल कंपनी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं की है।

वित्तीय वर्ष के लिए निर्धारित लक्ष्य पाने में जुटा राजस्व विभाग का पूरा अमला मुस्तैदी के साथ मैदान में जुट गया है, लेकिन लोगों से मिल रहे खराब फीडबैक से उनका मनोबल गिरा है। जानकारी के मुताबिक शहर की सीमा में आने वाले 16 जोन के 79 वार्ड के करदाताओं से वसूली करने के लिए सैकड़ों कर्मचारियों को लगाया गया है। हालांकि इस बीच कई लोग डोर टू डोर टैक्स दे रहे हैं। उनका कहना है कि व्यवस्था भले ही खराब है, लेकिन टैक्स देने से पीछे नहीं हटना चाहिए। विभाग को ऐसे लापरवाही करने वाले जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई करना चाहिए।

पीओएस मशीन लेकर घर पहुंच रहे कर्मचारी: लोगों के घर-घर जाकर डोर टू डोर का टैक्स वसूलने के लिए राजस्व विभाग के अमले को पीओएस मशीन दी गई है। निगम के राजस्व विभाग के उपायुक्त पीएन सनखेरे ने बताया कि इस मशीन को लेकर वह लोगों से मौके पर ही टैक्स की राशि ऑनलाइन जमा करा रहे हैं। विभाग ने अपने मैदानी अमले को लगभग 15 पीओएस मशीनें दी हैं। विभाग ने पिछले दो दिनों में तीन से चार लाख रूपये वसूले हैं। वहीं इंडियन कॉफी हाउस की 10 ब्रांच से से डोर टू डोर कचरा कलेक्शन शुल्क जमा कराया गया।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local