जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना काल के बाद शुरू हुई ट्रेनों में अनियमित और बगैर टिकट यात्रा करने वालों के खिलाफ रेलवे द्वारा लगातार अभियान चलाया जा रहा है। पिछले ढाई माह में ही रेलवे ऐसे यात्रियों से करीब आठ करोड़ रुपये वसूल चुका है। जनवरी माह में तो ऐसे यात्रियों से चार करोड़ 60 लाख रुपये जुर्माना वसूलकर जबलपुर रेल मंडल ने एक नया कीर्तिमान बना दिया था।

कोरोना काल में स्पेशल एक्सप्रेस बनकर दौड़ रहीं ट्रेनों में उन्हीं यात्रियों को प्रवेश की अनुमति है जिनकी टिकट कंफर्म है। वेटिंग टिकट वालों को भी यात्रा की अनुमति नहीं है। बावजूद इसके बहुत से यात्री अनियमित या बिना टिकट ट्रेनों में सफर कर रहे हैं। इसको लेकर जबलपुर रेल मंडल द्वारा जनवरी में विशेष चेकिंग अभियान शुरू किया गया था। सिर्फ एक माह में ही रेलवे ने 59 हजार 770 लोगों को अनियमित टिकट के साथ पकड़कर चार करोड़ 60 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था। हालांकि फरवरी माह में यह आंकड़ा कम हो गया। फरवरी में चले टिकट चेकिंग अभियान में रेलवे को 38 हजार 460 लोग अनियमित और बिना टिकट मिले थे। इनसे दो करोड़ 80 लाख का जुर्माना वसूला गया।

रेलवे ने मार्च महीने में भी इस अभियान को चालू रखा है। एक दिन पहले ही जबलपुर रेल मंडल के वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक विश्व रंजन ने मंडल वणिज्य प्रबंधक सुनील श्रीवास्तव के नेतृत्व में बिना टिकट यात्रियों की जांच के लिए 20 सदस्यी टीम बनाई। इस टीम को जबलपुर से सतना के बीच तैनात किया गया। टीम ने सुबह-सुबह ही पवन एक्सप्रेस, सिकंदराबाद एक्सप्रेस, चित्रकूट एक्सप्रेस सहित एक दर्जन यात्री रेल गाडियों में अभियान चलाकर बड़ी संख्या में अनियमित टिकट पर सफर करने वालों को पकड कर उनकी यात्रा पर ब्रेक लगा दिया।

Posted By: Ravindra Suhane

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags