Jabalpur News: जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। भारी विरोध और हंगामे के बीच नगर निगम, जिला प्रशासन ने घमापुर-रांझी स्मार्ट रोड के बाधक अतिक्रमण तो हटा दिए। लेकिन बीते सात दिन बाद भी अब तक मलबा नहीं उठाया गया है। घमापुर से बाई का बगीचा के बीच सड़क के किनारे मलबे के ढेर लगे हैं। कुछ मलबा तो सड़क के बीचों बीच आ गया है। इसी तरह बाई के बगीचा, पंजाब बैंक के समाने एक तरफ की रोड भी धंस गई हैं जिसमें पैदल राहगीरों के साथ ही वाहन चालकों के साथ किसी दिन गंभीर दुर्घटना घट सकती है। नगर निगम ने तो अतिक्रमण हटा कर अपनी जिम्मेदारी पूरी कर दी लेकिन स्मार्ट सिटी ने अब तक रोड निर्माण भूमिगत नाली व रोड का कार्य शुरू नहीं किया है।

मलबे के ढेर बने मुसीबत

इधर इस व्यस्तम मार्ग से गुजरने वाले वाहन चालकों के लिए मकानों का टूटा बिखरा पड़ा मलबा मुसीबत बना हुआ है। वीकल ,जीसीएफ, खमरिया फैक्ट्री सहित अन्य सुरक्षा संस्थानों की तरफ जाने वाली इस रोड पर 24 घंटे यातायात का दबाव बना रहता है। ये रोड अमरकंटक, कुंडम, डिंडौरी को भी जोड़ती है। बावजूद इसके जल्द रोड निर्माण कार्य शुरू नहीं किया जा रहा है।

हटाए थे 60 से ज्यादा अतिक्रमण

विदित हो कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत घमापुर-रांझी तक नौ किमी लंबी और 80 फीट चौड़ी स्मार्ट रोड का निर्माण कराया जा रहा है। लेकिन अतिक्रमणों के चलते घमापुर की तरफ महज 300 मीटर का हिस्सा करीब ढाई वर्ष बाद भी अधूरा पड़ा है। दोनों तरफ अतिक्रमण न हटाए जाने से ठेकेदार ने भी काम बंद दिया था।नगर निगम के अतिक्रमण दस्ते ने घमापुर चौराहे की तरफ छह और सात मई को दो दिनों तक लगातार कार्रवाई कर सड़क के दोनों तरफ के 10 से 20 फीट तक बाधक अतिक्रमणों तोड़ दिए थे।

बारिश में होगी फजीहत

नागरिकों का कहना है कि नगर निगम स्मार्ट सिटी ने अतिक्रमण तोड़ दिए लेकिन रोड बनाने में अब हीलाहवाली की जा रही है। यदि ही उदासीनता बरती गई तो बारिश में नागरिकों के साथ ही वाहन चालकों की फजीहत होना तय है। मानसून आने में अब महज कुछ ही दिन शेष है। यदि बारिश शुरू होती है तो लोगों को पानी की निकासी अवरूद्ध होगी मलबा कीचड़ के बीच लोगों का आवागमन भी मुश्किल हो जाएगा।

----

रोड निर्माण का कार्य जल्द शुरू कराया जाएगा। भूमिगत नाली निर्माण कराया जाएगा साथ ही रोड भी बनाई जाएगी। बाकी कार्य बाद में किए जाएंगे।

कमलेश श्रीवास्तव, कार्यपालन यंत्री व प्रोजेक्ट इंचार्ज स्मार्ट सिटी

Posted By: Shivpratap Singh

NaiDunia Local
NaiDunia Local