जबलपुर, नईदुनिया रिपोर्टर। कोरोना के संक्रमण के बीच लोगों की आस्था और श्रद्धा का माहौल और भी बढ़ता जा रहा है। जितना संक्रमण बढ़ रहा है भक्ति भी बढ़ रही है। भक्तिभाव का ये सिलसिला इन दिनों चल रही नवरात्र ने और भी बढ़ा दिया है। फिर बात चाहे घरों में हो रहे अनुष्ठानों की हो या फिर अखंड ज्योति की स्थापना। ये सारी परंपराएं निरंतर चल रही हैं। हां, ये जरूर है कि कोरोना ने भक्ति के तरीकों में थोड़ा अंतर जरूर ला दिया है।

खुद को स्वस्थ रखना बड़ी जिम्मेदारी : अनामिका दुबे ने बताया कि उनके घर में सास-ससुर सीनियर सिटीजन हैं और दो छोटे बच्चे भी हैं। पति कुछ दिनों पहले पॉज़िटिव हो गए थे। इसलिए सभी के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए इस बार किसी ने व्रत नहीं रखा है। लेकिन घर में अखंड ज्योत जल रही है। खुद को स्वस्थ रखना इस समय पर बड़ी जिम्मेदारी है। अमित स्वामी ने बताया कि हर बार कॉलोनी के लोग एक- दूसरे के घर जा कर जस गाते थे और सभी के यहां रखे गए जवारों के दर्शन करते थे। कॉलोनी में कई घरों में जवारे रखे जाते हैं। मेरे यहां भी जवारे रखे गए हैं। इस बार प्रार्थना, पूजा और भी बढ़ कर हो रही है। सभी के अच्छे स्वास्थ्य के लिए कामना भी की जा रही है। साथ ही हम कॉलोनी की महिलाएं इंटरनेट मीडिया के माध्यम से अपने घरों की फ़ोटो साझा कर रहे हैं। जिससे सभी को दर्शन हो जाएं।

बस्ती में पहुंचाएंगे हलवा : नवरात्र में कन्या भोजन के महत्व को देखते हुए कन्या भोजन के रूप में जरूरतमंद बच्चियों तक भोजन पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है। कामिनी वर्मा ने बताया को वो अष्टमी के दिन हलवा बनाकर बाजू की बस्ती की बच्चियों तक पहुंचा देंगी। इसी तरह वर्षा सिंह ने बताया कि वो भी जरूरतमंदों तक भोजन पहुंचाएंगी। यही इस बार का कन्या भोजन रहेगा। जिनके घरों में छोटी बेटियां हैं वो लोग बेटियों का तिलक लगा कर पूजन करेंगे और घर में ही कन्या पूजन और भोजन करा देंगे।

Posted By: Brajesh Shukla

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags